ताज़ा खबर
 

बढ़ गई है मोदी और योगी सरकार में खाई! जानिए क्यों

बसपा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा ने इस मुद्दे को राज्यसभा में उठाया था। जिस पर जवाब देते हुए केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता मंत्रालय ने योगी सरकार के इस प्रावधान को खारिज कर दिया था।

Author नई दिल्ली | July 11, 2019 11:49 AM
केन्द्र सरकार के इंकार के बावजूद योगी सरकार अपने फैसले पर अड़ी है।(image source-express/reuters/file pic)

केन्द्र की मोदी सरकार और उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के बीच एक मुद्दे पर मतभेद सामने आए हैं। दरअसल योगी सरकार द्वारा ओबीसी वर्ग की 17 जातियों को एससी वर्ग में शामिल करना चाहती है, लेकिन इस मुद्दे पर केन्द्र और राज्य सरकार के बीच एकराय नहीं बन सकी है। बता दें कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के इस फैसले को केन्द्र के सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता मंत्री थावर चंद गहलोत ने खारिज कर दिया था। बीती 2 जुलाई को थावर चंद गहलोत ने संसद में इसकी जानकारी देते हुए इस प्रावधान को ‘असंवैधानिक’ बताया था। हालांकि योगी सरकार अभी भी अपने स्टैंड से पीछे हटने को तैयार नहीं है।

इकॉनोमिक टाइम्स की एक खबर के अनुसार, यूपी सरकार के प्रवक्ता का कहना है कि ‘यह मामला अभी विचाराधीन है। समाज कल्याण विभाग द्वारा दिया गया फैसला इलाहाबाद हाईकोर्ट के एक अंतरिम आदेश के अनुसार ही है। यदि उत्तर प्रदेश सरकार के आदेश को पढ़ेंगे तो यह खासतौर पर कहता है कि सभी जातियों को जाति प्रमाण पत्र इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के अनुसार ही दिए जाएंगे। अब कोर्ट आगामी 12 जुलाई को इस मुद्दे पर सुनवाई करेगा।’

उत्तर प्रदेश सामाजिक कल्याण विभाग के अधिकारियों का कहना है कि अभी किसी को भी जाति प्रमाण पत्र नहीं दिए गए हैं। वहीं सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि ‘यह बेहद ही संवेदनशील मुद्दा है और हम अदालत के आदेश की स्टडी कर रहे हैं और यह जानने की कोशिश कर रहे हैं कि राज्य सरकार ने ऐसे आदेश क्यों जारी किए?’

उल्लेखनीय है कि बीती 24 जून को उत्तर प्रदेश के सामाजिक कल्याण विभाग ने जिलाधिकारियों और डिविजनल कमिश्नर को इलाहाबाद हाईकोर्ट के 29 मार्च, 2017 के फैसले के तहत जाति प्रमाण पत्र जारी करने के निर्देश दिए थे। निर्देशों के अनुसार, जिन जातियों को जाति प्रमाण पत्र दिए जाने थे, उनमें कश्यप, राजभर, धीवर, बिंद, कुम्हार, केहर, केवट, निषाद, भार, मल्ला, प्रजापति, धीमर, बाथम, तुरहा, गोदिया मांझी और मछुआ जैसी जातियां शामिल हैं।

बसपा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा ने इस मुद्दे को राज्यसभा में उठाया था। जिस पर जवाब देते हुए केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं आधिकारिता मंत्रालय ने योगी सरकार के इस प्रावधान को खारिज कर दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App