ताज़ा खबर
 

इनकम टैक्स अफसरों को मोदी सरकार का फरमान- 100% पूरा करें टारगेट, वरना नई पोस्टिंग, अप्रेजल में होगी दिक्कत

मेमोरेंडम में कहा गया है कि अफसरों का प्रदर्शन ही उनके 'भविष्य की पोस्टिंग के लिए महत्तवपूर्ण फैक्टर' साबित होगा। यह मेमोरेंडम विशेष तौर पर फील्ड अधिकारियों के लिए जारी किया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः पीटीआई)

नरेंद्र मोदी सरकार ने इनकम टैक्स अफसरों को 100 फीसदी टारगेट को हासिल करने के निर्देश जारी किए हैं। सरकार ने अफसरों को साफ संदेश दिया है कि अगर वह इस लक्ष्य को हासिल करने में विफल रहे तो उन्हें पोस्टिंग और अप्रेजल में दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड के अधिकारी की तरफ से 21 फरवरी को जारी किए गए एक मेमोरेंडम में यह बात कही गई है। मेमोरेंडम में कहा गया है कि अफसरों का प्रदर्शन ही उनके ‘भविष्य की पोस्टिंग के लिए महत्तवपूर्ण फैक्टर’ साबित होगा। यह मेमोरेंडम विशेष तौर पर फील्ड अधिकारियों के लिए जारी किया गया है।

द प्रिंट में छपी खबर के मुताबिक मोदी सरकार ने ‘विवाद से विश्वास’ योजना के तहत 2 लाख करोड़ रुपये का टारगेट तय किया है। योजना के तहत टैक्स डिमांड से जुड़े विवादों के 100 फीसदी निपटारे या समाधान का लक्ष्य रखा गया है। मेमोरेंडम में कहा गया है कि ‘विवाद से विश्वास’ योजना के संबंध में फील्ड अधिकारियों का प्रदर्शन ‘उनकी वार्षिक प्रदर्शन मूल्यांकन रिपोर्ट को अंतिम रूप देने में एक आवश्यक कारक होगा।’

बता दें कि ‘विवाद से विश्वास’ योजना में कर, दंड, ब्याज, शुल्क और टीडीएस और टीसीएस ऐसे सभी प्रकार के विवादों के समाधान के लिए आवेदन किया जा सकता है। भुगतान के संबंध में शर्त है कि इसके तहत कर की शत-प्रतिशत राशि 31 मार्च तक जमा करनी है। सरकार इस स्कीम के जरिए अपने रेवन्यू को बढ़ाना चाहती है।

मालूम हो कि बीते साल कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती के बाद से सरकार को रेवन्यू में कमी की आशंका है जिसके बाद से टैक्स कलेक्शन को बढ़ाने के लिए सरकरा हर संभव प्रयास कर रही है। इससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से ईमानदारी से टैक्स देने की अपील की थी। उन्होंने 13 फरवरी को समाचार चैनल ‘टाइम्स नाउ’ के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा था कि बहुत सारे लोगों का टैक्स न देने का भार ईमानदार करदाताओं पर पड़ता है, ऐसे में प्रत्येक भारतीय को इस विषय पर आत्ममंथन कर ईमानदारी से कर देना चाहिए।

Next Stories
1 दिल्ली हिंसा पर संयुक्त राष्ट्र की भी नजर, यूएन प्रमुख बोले- शांतिपूर्ण प्रदर्शन करें लोग, सुरक्षा बल बरतें संयम
2 न्यायिक शिष्टाचार से बाहर थे SC जज अरुण मिश्रा के शब्द, पीएम मोदी की तारीफ करने पर BAI ने जताई नाराजगी
3 आप के मंत्री-सांसद ने केंद्र सरकार से लगाई गुहार- हिंसा प्रभावित इलाकों में तैनात करें सेना, बोले- ‘गृह मंत्री जी अब तो जाग जाइए’
ये पढ़ा क्या?
X