ताज़ा खबर
 

24 घंटे पहले लिखित नोटिस दिए बिना नहीं आ सकेगा मकान मालिक, किराएदारों को बड़ी राहत दे सकती है मोदी सरकार

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में तैयार हो रहे मॉडल रेंट एक्ट अधिनियम से संबंधित 2 बैठक जून 2019 में हो चुकी हैं। माना जा रहा है कि जुलाई के आखिरी सप्ताह में इस एक्ट को लेकर आखिरी व अहम बैठक होगी।

अगस्त 2019 में मॉडल रेंट एक्ट को कैबिनेट से मंजूरी मिलने की उम्मीद। फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस

केंद्र की मोदी सरकार अपने दूसरे कार्यकाल में एक बड़ा फैसला लेने की तैयारी में है, जिससे किराएदारों को राहत मिल सकती है। बताया जा रहा है कि सरकार अब मकान व दुकान किराए पर लेने-देने के लिए मॉडल कानून बनाने की तैयारी कर रही है, जो अंतिम चरण में है। उम्मीद है कि अगस्त तक इस अधिनियम को कैबिनेट से मंजूरी मिल सकती है। माना जा रहा है कि केंद्र सरकार का यह फैसला किराएदारों के लिए गुड न्यूज साबित हो सकता है।

गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में बना GOM: जानकारी के मुताबिक, इस अधिनियम को तैयार करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता मंत्रियों का समूह (GOM) बनाया गया है, जो इस अधिनियम पर काफी तेजी से काम कर रहा है। बताया जा रहा है कि मंत्रियों के इस समूह में कानून मंत्री व आवासीय मंत्री भी शामिल हैं।

National Hindi News, 11 July 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक 

जून में हुईं 2 बैठक: सूत्रों के मुताबिक, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में तैयार हो रहे मॉडल रेंट एक्ट अधिनियम से संबंधित 2 बैठक जून 2019 में हो चुकी हैं। माना जा रहा है कि जुलाई के आखिरी सप्ताह में इस एक्ट को लेकर आखिरी व अहम बैठक होगी, जिसके बाद अगस्त में यह एक्ट मंजूरी के लिए कैबिनेट के सामने पेश कर दिया जाएगा।

Bihar News Today, 11 July 2019: बिहार की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

एक्ट से होंगे ये बदलाव: एनबीटी की रिपोर्ट की मानें तो मॉडल रेंट एक्ट अधिनियम से किराएदारों को काफी राहत मिलेगी। इसके तहत मकान मालिक को घर के मुआयने, रिपेयरिंग से जुड़े काम कराने या किसी दूसरे मकसद के लिए आने से पहले भी 24 घंटे का लिखित नोटिस एडवांस में देना होगा। वह बिना बताए मकान देखने नहीं आ पाएगा। वहीं, किराएदार से 3 महीने से ज्यादा किराया बतौर सिक्योरिटी मनी नहीं लिया जा सकेगा। इसके अलावा मकान का रेनोवेशन कराने के बाद किराया बढ़ाया जा सकेगा। साथ ही, विवाद निपटाने के लिए स्पेशल किराया ट्रिब्यूनल बनाया जाएगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Karnataka Political Crisis : विधानसभा स्पीकर की रिपोर्ट के आधार पर सुप्रीम कोर्ट दे सकता है फैसला
2 National Hindi News, 11 July 2019 Updates: कर्नाटक में बागी कांग्रेस MLA बैराठी बसवराज दौड़ते-भागते पहुंचे स्पीकर ऑफिस, JDS विधायक भी हैं मौजूद
3 खालिस्तान समर्थक ‘सिख्स फॉर जस्टिस’ पर प्रतिबंध