ताज़ा खबर
 

चलती बस में गुम कर दिया बीजेपी से मिला टिकट, फिर भी विधानसभा चुनाव जीत गए थे ‘ओडिशा के मोदी’

प्रताप सारंगी साल 2004 में नीलागिरी विधानसभा सीट से भाजपा के टिकट पर चुनाव जीते थे। अब 2019 के लोकसभा चुनावों में सारंगी बालासोर लोकसभा सीट से सांसद चुने गए हैं।

बालासोर से भाजपा सांसद और अब मोदी कैबिनेट में शामिल किए गए प्रताप चंद्र सारंगी। (IMAGE SOURCE-Pratap chandra sarangi/facebook)

मोदी कैबिनेट के शपथ ग्रहण समारोह में जिस एक नेता को सबसे ज्यादा तालियां मिली, वो हैं प्रताप चंद्र सारंगी। सारंगी को उनकी सादगी और कर्मठता के चलते ‘ओडिशा का मोदी’ भी कहा जाता है। ओडिशा की बालासोर लोकसभा सीट से चुनकर आए प्रताप चंद्र सारंगी को मोदी कैबिनेट में शामिल किया गया है। सारंगी अपनी सादगी और सामाजिक कल्याण से जुड़े कामों में अपनी सक्रियता के लिए जाने जाते हैं। सारंगी साल 2004 और 2009 के ओडिशा विधानसभा चुनावों में भी जीत दर्ज कर चुके हैं। अब इसे प्रताप चंद्र सारंगी की सादगी कहें या सीधापन कि 2009 के विधानसभा चुनावों में उनसे चलती बस में भाजपा द्वारा दिया गया टिकट ही खो गया था। इसके बाद उन्होंने निर्दलीय पर्चा भरा और अपनी लोकप्रियता के दम पर उस चुनाव में भी जीत हासिल की।

द इंडियन एक्सप्रेस के साथ बातचीत में भाजपा के ओडिशा से प्रदेश उपाध्यक्ष समीर मोहंती ने बताया कि साल 2009 में प्रताप चंद्र सारंगी को पार्टी ने नीलागिरी विधानसभा सीट से टिकट दिया था। उन्होंने वह टिकट अपने बैग में रख लिया। जब वह पब्लिक ट्रांसपोर्ट की एक बस से सफर कर रहे थे, तभी उनसे वह टिकट गुम हो गया। चूंकि नामांकन की प्रक्रिया के लिए ज्यादा समय नहीं बचा था, इसलिए सारंगी ने निर्दलीय ही पर्चा भर दिया और बाद में जीत भी हासिल की। प्रताप सारंगी साल 2004 में नीलागिरी विधानसभा सीट से भाजपा के टिकट पर चुनाव जीते थे। अब 2019 के लोकसभा चुनावों में सारंगी बालासोर लोकसभा सीट से सांसद चुने गए हैं। सारंगी ने बालासोर से कांग्रेस के नवज्योति पटनायक और बीजद के रबिंद्र जेना को मात दी।

सारंगी आरएसएस के प्रचारक रहे हैं और ओडिशा में बजरंग दल के संयोजक का पद भी संभाल चुके हैं। इसके अलावा सारंगी विश्व हिंदू परिषद से भी जुड़े रहे हैं। चुनावी हलफनामे के अनुसार, सारंगी के पास सिर्फ 1.5 लाख रुपए की चल और 15 लाख रुपए की अचल संपत्ति है। सारंगी अविवाहित हैं। चुनाव प्रचार के दौरान सारंगी साइकिल से घूम-घूमकर प्रचार करते थे और बाद में ऑटो रिक्शा से भी चुनाव प्रचार किया। सारंगी ओडिशा के तटीय इलाकों में सामाजिक आंदोलन के लिए एक जाना पहचाना नाम है। वह शराब के खिलाफ और शिक्षा के प्रति जागरुकता लाने के लिए आंदोलन भी कर चुके हैं। बीते दिनों जब वह मंत्रीमंडल की शपथ लेने के लिए दिल्ली आ रहे थे, तब उनकी एक तस्वीर सामने आयी थी, जिसमें वह बैग में अपना सामान पैक कर रहे हैं। इस तस्वीर की सादगी के चलते यह फोटो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App