योगी-मोदी-नड्डा-शाह सबने की वादाखिलाफी, गुस्से में हैं निषाद, सड़कों पर उतरेंगे- मंत्री नहीं बनाने पर संजय निषाद ने धमकाया

मोदी के कैबिनेट विस्तार में जगह न मिलने के बाद संजय निषाद भड़के हुए हैं। उन्होंने भाजपा के खिलाफ सड़कों पर उतरने की धमकी दे दी है। वह यूपी सरकार में भाजपा की सहयोगी पार्टी हैं।

sanjay nishad
निषाद पार्टी के चीफ संजय निषाद। फोटो- @ANI ट्विटर हैंडल

मोदी कैबिनेट के विस्तार के बाद अब भाजपा का फोकस कुछ महीनों बाद होने वाले विधानसभा चुनावों पर होगा। इस फेरबदल में उत्तर प्रदेश को बड़ा स्थान दिया गया है। यूपी से सात मंत्रियों को शपथ दिलायी गई है। इसमें अपना दल की चीफ अनुप्रिया पटेल भी शामिल हैं। हालांकि अनुप्रिया को केंद्रीय कैबिनेट में जगह मिलने से एनडीए के दूसरे सहयोगी निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद भड़के हुए हैं। उन्होंने पीएम मोदी समेत योगी आदित्यनाथ, जेपी नड्डा और अमित शाह पर वादाखिलाफी का आरोप लगाया है।

संजय निषाद ने कहा, निषाद समाज और कार्यकर्ता बहुत गुस्से में हैं। कम सीटों पर पकड़ रखने वाली अनुप्रिया पटले को जगह मिली और निषाद समाज का प्रतिनिधित्व नहीं रहा। ये लोग अलोकतांत्रिक ढंग से आरक्षण मांगते रहे हैं।

कोरोना पर गलत साबित हुए हर्षवर्धन, तभी से अहमियत नहीं दे रहे थे प्रधानमंत्री मोदी

उन्होंने कहा, निषाद समाज लंबे समय से आरक्षण की प्रतीक्षा कर रहा है। भाजपा अपने वादे को कब पूरा करेगी। योगी जी, मोदी जी , नड्डा जी और अमित शाह जी ने भी कहा था। संजय निषाद ने सड़क पर आने की धमकी देते हुए कहा, अगर हमारा प्रतिनिध मंत्रिमंडल में नहीं रहेगा तो हम रोड पर उतरने को तैयार हैं।

बता दें कि हाल ही में संजय और उनके बेटे प्रवीण निषाद अमित शाह से मिले थे। उन्होंने मुलाकात के बाद यह भी कहा था कि वह चाहते हैं यूपी में उनका डेप्युटी सीएम बने। उधर वह मोदी मंत्रिमंडल में भी जगह पाने की कोशिश कर रहे थे। उनका कहना है कि यूपी में भाजपा को 40 सीटें दिलाने के पीछे निषाद पार्टी का योगदान है। निषाद का दावा है कि यूपी की 100 सीटों पर उनका समाज जिताने या हराने की ताकत रखता है।

बता दें कि इस कैबिनेट विस्तार में उत्तर प्रदेश जैसे चुनावी राज्यों पर खास फोकस किया गया है। उत्तर प्रदेश से सात नए मंत्री शामिल किए गए हैं औऱ इसके साथ ही कुल मंत्रियों की संख्या 16 हो गई है। उधर गुजरात पर भी प्रधानमंत्री की नजर है। इसी को देखते हए मनसुख मंडाविया और पुरुषोत्तम रुपाला का प्रमोशन किया गया है।

ओबीसी पर भी खास ध्यान दिया गया है। कुर्मी समुदाय के कुल पांच मंत्रियों को जगह दी गई है। इनमें से दो यूपी से हैं।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी को आरोपों की जांच करने का सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेशSupreme Court, Army, Army shoot crowd, Delhi