ताज़ा खबर
 

मिजोरम: मुख्‍य चुनाव अधिकारी के खिलाफ उबाल, दिल्‍ली हुए तलब, CM नहीं भर सके पर्चा

सीएम ने शशांक की जगह अतिरिक्त मुख्य चुनाव अधिकारी को जिम्मेदारी सौंपने की सलाह दी है। मुख्यमंत्री ने कहा है, ‘स्थितियों को ध्यान में रखते हुए अगर संभव हो तो अतिरिक्त सीईओ को शशांक की जिम्मेदारी सौंप दी जाए।’

मिजोरम के मुख्यमंत्री ललथनहवला (फोटो सोर्स : Indian Express)

मिजोरम का मामला गर्माता ही जा रहा है। अब इस मामले में मिजोरम के मुख्य चुनाव अधिकारी (सीईओ) एस बी शशांक को दिल्ली तलब कर लिया गया है। दो सीटों पर लड़ रहे मिजोरम के मुख्यमंत्री ललथनहवला राज्य में जारी हंगाने के चलते पर्चा ही नहीं दाखिल कर पाए। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर एस बी शशांक को तुरंत पद से हटाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि, जनता में वह भरोसा खो चुके हैं। मुख्यमंत्री ने पत्र में कहा है कि 28 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव को सुचारू रूप से कराने के लिए शशांक को हटाना ही एकमात्र विकल्प है। इस पर एस बी शशांक का कहना है कि निर्वाचन आयोग से समन मिलने के बाद वह बुधवार को नई दिल्ली के लिए रवाना होंगे। शशांक ने कहा कि वह गुरुवार को चुनाव पैनल से मिलेंगे।

मुख्यमंत्री ने पीएम मोदी को लिखे पत्र में प्रधान सचिव (गृह) ललनुनमाविया चुआउंगो की शिकायत भी की है। उन्होंने लिखा है कि ललनुनमाविया चुआउंगो चुनावी प्रक्रिया में दखल दे रहे हैं। इसके साथ ही सीएम ने शशांक की जगह अतिरिक्त मुख्य चुनाव अधिकारी को जिम्मेदारी सौंपने की सलाह दी है। मुख्यमंत्री ने कहा है, ‘स्थितियों को ध्यान में रखते हुए अगर संभव हो तो अतिरिक्त सीईओ को शशांक की जिम्मेदारी सौंप दी जाए।’

वहीं इस मामले पर अतिरिक्त उपायुक्त चुआहनुना ने बताया कि उपायुक्त कार्यालय के आसपास की स्थिति पर विचार करते हुये मुख्यमंत्री ने मंगलवार को अपने गृह निर्वाचन क्षेत्र से नामांकन दाखिल करने का अपना विचार बदल लिया। उपायुक्त कार्यालय में ही निर्वाचन अधिकारी का कार्यालय है। चुआहनुना ने कहा कि ललथनहवला को किसी ने भी अपना नामांकन पत्र भरने से नहीं रोका। उन्होंने बताया कि यह उनका अपना फैसला था। राज्य में 28 नवंबर को चुनाव होने वाला है।

गौरतलब है कि कई गैर सरकारी संस्थान (एनजीओ) शशांक को हटाने के लिए मांग कर रहे हैं। इस बीच, यंग मिजो एसोसिएशन (वाईएमए) के सैकड़ों सदस्यों ने सीईओ के कार्यालय के सामने सुबह 8 बजे से अपना धरना जारी रखा। एनजीओ समन्वय समिति के अध्यक्ष वानलालरूअता ने कहा कि शशांक के हटाये जाने के बाद ही धरना समाप्त होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App