ताज़ा खबर
 

अगर टैक्स रिटर्न फाइल करते समय कर दी हैं ये 6 गलतियां, तो मिल सकता है सरकारी नोटिस

Income Tax Return: आईटीआर फाइल करते समय अपने सभी बैंक खातों की जानकारी देना जरूरी है।

गलत फॉर्म से टैक्स रिटर्न फाइल करने पर इस गलती को सुधारने के लिए 15 दिन का वक्त दिया जाता है।

टैक्स फाइल करने के दौरान हम कई बार ऐसी छोटी छोटी गलतियां कर जाते हैं जिनकी वजह से इनकम टैक्स विभाग की तरफ से नोटिस मिल सकता है। आईये हम आपको कुछ ऐसी ही गलतियों के बारे में बताते हैं।
गलत फॉर्म से आईटीआर फाइल करना: सभी करदाताओं को इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने के लिए सही फॉर्म का पता होना जरूरी है। अगर गलत फॉर्म पर आईटीआर फाइल कर दी है तो उसे नहीं माना जाएगा और सही फॉर्म पर दोबारा आईटीआर फाइल करने पड़ेगी। इस गलती को सुधारने के लिए गलती का पता चलने के बाद इनकम टैक्स विभाग की तरफ से 15 दिन का वक्त मिलता है। अगर 15 दिन में फाइल नहीं करते हैं तो कानून के मुताबिक कार्रवाई की जा सकती है।

ब्याज से होने वाली कमाई की जानकारी नहीं देना: कई बार होता है कि इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करते समय सेविंग अकाउंट, एफडी आदि पर ब्याज से होने वाली कमाई की जानकारी नहीं दे पाते हैं। ब्याज से होने वाली कमाई पर टैक्स देना होता है। हां इसके लिए टैक्स में छूट की एक सीमा दी गई है।

HOT DEALS
  • Apple iPhone SE 32 GB Gold
    ₹ 19959 MRP ₹ 26000 -23%
    ₹0 Cashback
  • Sony Xperia XA Dual 16 GB (White)
    ₹ 15940 MRP ₹ 18990 -16%
    ₹1594 Cashback

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल नहीं करना: बहुत से लोग अपनी आयकर रिटर्न नहीं दाखिल करते हैं क्योंकि उनके पास पुरानी संपत्ति है, जो टैक्स फ्री है। इस संपत्ति से होने वाली आय टैक्स की सीमा से कम है। हालांकि, अधिनियम की धारा 13 9 (1) के हालिया संशोधनों के अनुसार यदि आपकी कुल आय न्यूनतम छूट स्तर से अधिक है, तो आपको अपनी आयकर रिटर्न फाइल करने की आवश्यकता है।

इनकम क्लब नहीं करना: नियमों के मुताबिक, करदाता को अपनी आय में निर्दिष्ट व्यक्तियों (छोटे बच्चों, पति या पत्नी, बेटे के पति, आदि) की आय जोड़नी होती है और उनके द्वारा दिए गए टैक्स के आधार पर ही टैक्स का केल्कुलेशन होता है। ज्यादातर ऐसे मामले हैं जब नाबालिग बच्चे की आय उसके माता-पिता की आय में जोड़ दी जाती है।

पुरानी नौकरी की इनकम छुपाना: कई बार ऐसा होता है कि जब फाइनैंशल ईयर के बीच में नौकरी बदलते हैं तो पुरानी नौकरी की आय को नहीं बताते हैं। यह भी इनकम क्लब नहीं करने का ही मामला है।

टैक्स फ्री इनकम की जानकारी नहीं देना: अगर आप एक करदाता हैं तो आपको टैक्स रिटर्न फाइल करते समय अपनी पूरी कमाई की जानकारी देनी होगी। आपको टैक्स फ्री इनकम की भी जानकारी देनी होगी।

बैंक अकाउंट की जानकारी छुपाना: अगर आपके पास कई बैंक अकाउंट हैं और उन सभी खातों की जानकारी आपने टैक्स रिटर्न फाइल करते समय नहीं दी है, तो आपको सरकार का नोटिस मिल सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App