ताज़ा खबर
 

प्रधानमंत्री दौरे के लिए सुरक्षा कड़ी, मीरवाइज नजरबंद

प्रधानमंत्री की सात नवंबर को होने वाली जम्मू-कश्मीर यात्रा से पहले जम्मू क्षेत्र में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और पाकिस्तान से सटी अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सीमा सुरक्षा बल की टुकड़ियों..

Author जम्मू | November 4, 2015 11:52 PM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री की सात नवंबर को होने वाली जम्मू-कश्मीर यात्रा से पहले जम्मू क्षेत्र में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और पाकिस्तान से सटी अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सीमा सुरक्षा बल की टुकड़ियों को सचेत कर दिया गया है। इस बीच हुर्रियत कांफ्रेंस के अलगाववादी धड़े के नेता मीरवाइज उमर फारूक को बुधवार को घर में नजरबंद कर दिया गया और कई अन्य लोगों को एहतियातन हिरासत में लिया गया, ताकि शनिवार को होने वाली प्रधानमंत्री की यात्रा के दौरान समानांतर रैली निकालने की इनकी योजना विफल की जा सके।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बुधवार को यहां कहा कि पुलिस और सुरक्षा एजंसियों को सचेत और चौकस रहने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की यात्रा के दौरान जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग को बंद नहीं किया जाएगा। हालांकि सुरक्षा बढ़ाने सहित अन्य सभी एहतियाती कदम उठाए जाएंगे।

बीएसएफ ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तैनात अपने कर्मियों को सचेत रहने को कहा है ताकि आतंकवादियों को सीमा पार से घुसपैठ करने और हमले करने से रोका जा सके। बीएसएफ के एक अधिकारी ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास सीमावर्ती क्षेत्रों में सतर्कता और निगरानी बढ़ा दी गई है। इस बीच, रामबन जिले के चंदरकोट बेल्ट में उच्चस्तरीय बैठक कर प्रधानमंत्री के दौरे से संबंधित तैयारियों की समीक्षा की गई। बैठक में लोक निर्माण और राजस्व राज्य मंत्री सुनील कुमार शर्मा ने भी हिस्सा लिया।

प्रधानमंत्री के कार्यक्रमों के अनुसार सात नवंबर, 2015 को वह जम्मू क्षेत्र के चंदरकोट जाएंगे। वहां मोदी बगलिहार पनबिजली परियोजना के दूसरे चरण तथा जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर उधमपुर-बनिहाल सड़क को चार लेन करने की योजना का उद्घाटन करेंगे। उधर, श्रीनगर में हुर्रियत कांफ्रेंस के अलगाववादी धड़े के नेता मीरवाइज उमर फारूक को घर में नजरबंद कर दिया गया। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि फारूक को बुधवार सुबह नजरबंद किया गया। उन्होंने बताया कि दूसरी पंक्ति के नेताओं जैसे हुर्रियत के अब्दुल मनान बुखारी और जेकेएलएफ के नूर मोहम्मद कलवाल को एहतियातन हिरासत में लिया गया है। कट्टरपंथी हुर्रियत कांफ्रेंस के नेता सैयद अली शाह गिलानी ने सात नवंबर को समानांतर रैली का आह्वान किया था। गिलानी के इस आह्वान का घाटी के लगभग सभी अलगाववादी समूहों ने समर्थन किया था।

इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सराहना करने पर मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद को निशाने पर लेते हुए कांगे्रस ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री की राज्य की आगामी यात्रा कुछ और नहीं बल्कि एक ‘राजनीतिक हथकंडा’ है। पार्टी ने सईद को राज्य की अखंडता एवं संप्रभुता को बरकरार रखने के उपाय करने की ताकीद की। राज्य की पीडीपी-भाजपा सरकार का नेतृत्व करने वाले सईद को आड़े हाथ लेते हुए पार्टी ने कहा कि वह जम्मू कश्मीर के लोगों को धार्मिक एवं क्षेत्रीय आधार पर विभाजित करने के किसी भी प्रयास को नाकाम करेगी। जम्मू कश्मीर के अध्यक्ष व पूर्व मंत्री जीए मीर ने दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग कस्बे में विरोध रैली में कहा कि बिना किसी बात के मोदी की सराहना करने से मुद्दों का हल नहीं निकलेगा। राज्य की अखंडता एवं संप्रभुता को बरकरार रखने के लिए उपाय करने की आवश्यकता है।

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करेंगूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App