scorecardresearch

अल्पसंख्यक संस्थान के दर्जे की समीक्षा होगी

उच्चतम न्यायालय इस सवाल की समीक्षा करने के लिए राजी हो गया है कि क्या अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्यों के प्रशासकीय अधिकार वाले किसी शैक्षणिक संस्थान को अल्पसंख्यक संस्थान का दर्जा दिया जाए?

अल्पसंख्यक संस्थान के दर्जे की समीक्षा होगी
सुप्रीम कोर्ट (फोटो सोर्स- द इंडियन एक्सप्रेस)

न्यायमूर्ति बीआर गवई और न्यायमूर्ति बीवी नागरत्ना की पीठ ने इस सवाल पर उत्तर प्रदेश सरकार, राष्ट्रीय अल्पसंख्यक शैक्षणिक संस्थान आयोग, राष्ट्रीय आयुर्विज्ञान आयोग एवं अन्य पक्षों को नोटिस जारी करके उनसे जवाब तलब किया है।

शीर्ष अदालत इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देने वाली ‘महायना थेरावड़ा वज्रयना बुद्धिस्ट रिलीजियस एंड चैरिटेबल ट्रस्ट’ की अपील की सुनवाई कर रही थी।

उच्च न्यायालय ने अपने आदेश में कहा था कि महज एक अल्पसंख्यक व्यक्ति के प्रशासकीय संचालन के तहत चलने वाले शिक्षण संस्थान को अल्पसंख्यक संस्थान का दर्जा नहीं दिया जा सकता। उच्च न्यायालय ने यह आदेश उत्तर प्रदेश सरकार के आदेश के खिलाफ याचिका पर सुनाया था, जिसमें राज्य सरकार ने संबंधित संस्थान को अल्पसंख्यक संस्थान का दर्जा देने से इनकार कर दिया था।

याचिकाकर्ता ट्रस्ट ने 2001 में एक मेडिकल कालेज खोला था और ट्रस्ट के सदस्यों ने 2015 में बौद्ध धर्म अपना लिया था तथा उन्होंने संस्थान का संचालन जारी रखा था।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 07-10-2022 at 03:36:53 am