ताज़ा खबर
 

Lockdown 3.0: नहीं बचा एक भी पैसा, बेटे के जख्म से खून रिस रहा- पैदल गांव जाते मजदूर की दुख भरी कहानी

ट्रेनों या बसों के जरिए घर भेजने की व्यवस्था करने के केंद्र सरकार के ऐलान के बावजूद दिल्ली से कई प्रवासी मजूदर अब भी पैदल ही अपने गांव या गृहनगर की ओर रवाना हो रहे हैं। उत्तर प्रदेश जा रहे ऐसे ही कुछ मजदूरों ने बताया कि उनके पास पैसे नहीं हैं।

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: May 8, 2020 12:58 PM
Another section of migrants 850केंद्र के भरोसा दिलाने के बावजूद दिल्ली से कई प्रवासी मजूदर अब भी पैदल ही गृहनगर रवाना हो रहे हैं। (सोर्स- गजेंद्र यादव)

ट्रेनों या बसों के जरिए घर भेजने की व्यवस्था करने के केंद्र सरकार के ऐलान के बावजूद दिल्ली से कई प्रवासी मजूदर अब भी पैदल ही अपने गांव या गृहनगर की ओर रवाना हो रहे हैं। उत्तर प्रदेश जा रहे ऐसे ही कुछ मजदूरों ने बताया कि उनके पास पैसे नहीं हैं। भुवनेश कुमार (27) गुरुवार सुबह पत्नी बिनीता देवी, पांच साल के बेटे और 2 साल की बेटी के साथ नजफगढ़ से उत्तर प्रदेश के गजरौला के लिए पैदल ही रवाना हुए। दोपहर तक वे दिल्ली सचिवालय के पास स्थित आईटीओ पुल पर पहुंचे थे।

भुवनेश ने कहा कि दैनिक मजदूर के रूप में वे महीने में लगभग 9,000 रुपए कमाते हैं। जब 24 मार्च को लॉकडाउन लागू हुआ था तब उनके पास 12 हजार रुपए थे। उन्होंने बताया, ‘सारा पैसा खत्म हो गया है। मेरे बेटे के पैर में चोट लग गई है, उसके घाव से खून बह रहा है। हम उसके घाव पर केवल एक कपड़ा लपेटे हैं, क्योंकि हमारे पास उसके इलाजे की व्यवस्था नहीं है।’

उन्होंने कहा, ‘हम इसलिए दिल्ली छोड़कर जा रहे हैं, क्योंकि कोई पैसा नहीं है। खाना भी नहीं है। जो भी होगा…।’ भुवनेश को उम्मीद थे कि लॉकडाउन खत्म हो जाएगा और वे फिर से काम शुरू कर पाएंगे। उन्हें आनंद विहार बस टर्मिनल पर परिवार को रोक दिया गया था। पुलिस ने उन्हें गाजियाबाद से जाने की मंजूरी नहीं दी।

भुवनेश की तरह हरियाणा के पंचकुला में एक जींस फैक्ट्री में काम करने वाले राम खिलाड़ी शर्मा (30) की भी स्थिति है। वे अपनी पत्नी और दो बच्चों के साथ यूपी के बदायूं जा रहे हैं। वे हर महीने 9,000 रुपए कमाते थे। लॉकडाउन शुरू होने पर उनके पास 5,000 रुपए बचे थे। अब उनके पास सिर्फ 20 रुपए बचे हैं। राम खिलाड़ी ने पत्नी, 6 साल की बेटी और 2 साल के बेटे के साथ पैदल ही गांव जाने का फैसला किया है। उन्होंने कहा, ‘हम बस चलते रहेंगे, केवल भगवान अब हमारी मदद करेंगे।’

दिल्ली के मायापुरी में रहने वाले करन कुमार (24) और साक्षी (20) गुरुवार को मेरठ के लिए रवाना हुए। उनके 6 और 8 साल के दो बच्चे हैं। वे दोनों साक्षी की बड़ी बहन के घर पर हैं। साक्षी ने कहा, ‘हम जो कुछ कर रहे हैं उसके बारे में क्या कह सकती हूं? हम हार गए हैं और दुखी हैं। हम बिना भोजन या पानी के चल रहे हैं। हम सिर्फ अपने बच्चों को देखना चाहते हैं।’

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें:
कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा
जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए
इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं
क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘50% आबादी के अकाउंट में ट्रांसफर कीजिए 7500 रुपये नकद, नाम चाहे न्याय रखिए या पीएम योजना’, मजदूरों के संकट पर बोले राहुल गांधी
2 ‘डिस्ट्रिक लेवल पर लड़ें कोरोना से लड़ाई, PMO में बैठकर नहीं’, राहुल गांधी का मोदी पर तंज
3 दिल्ली-गुड़गांव जैसे शहरों से कोई प्रवासी न आ सकें पैदल, अधिकारियों को योगी आदित्यनाथ की सख्त हिदायत
राशिफल
X