राजधानी, शताब्‍दी एक्‍सप्रेस के यात्रियों के लिए खुशखबरी, ट्रेन लेट होने पर रेलवे भेजेगा मेसेज - Message to Passengers of Rajdhani, Shatabdi Express, Railway will Send Message on Seat Conformity - Jansatta
ताज़ा खबर
 

राजधानी, शताब्‍दी एक्‍सप्रेस के यात्रियों के लिए खुशखबरी, ट्रेन लेट होने पर रेलवे भेजेगा मेसेज

रेलवे की सूचना तकनीक इकाई, रेलवे सूचना प्रणाली केंद्र (क्रिस) द्वारा यात्रियों को एसएमएस सुविधा मुहैया कराई जाती है।

Author , नई दिल्ली | November 4, 2017 5:55 PM
इस समय किसी परियोजना को शुरू करने के लिए केवल 70 प्रतिशत भूमि अधिग्रहण की जरूरत है।

राजधानी और शताब्दी ट्रेन के यात्रियों को उनकी निर्धारित ट्रेन के एक घंटा से ज्यादा लेट होने की स्थिति में एसएमएस भेजा जाएगा। अभी, वेटिंग लिस्ट के यात्रियों के टिकट कंफर्म होने पर उन्हें एसएमएस संदेश भेजा जाता है। इस प्रोजेक्ट में शामिल रेलवे मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सभी राजधानी व शताब्दी ट्रेनों में यह एसएमएस सेवा शनिवार से शुरू हो गई। इसे चरणबद्ध तरीके से अन्य ट्रेनों में लागू किया जाएगा। रेलवे की सूचना तकनीक इकाई, रेलवे सूचना प्रणाली केंद्र (क्रिस) द्वारा यात्रियों को एसएमएस सुविधा मुहैया कराई जाती है।अधिकारी ने कहा, इस सुविधा का उपयोग करने के लिए यात्रियों को रिजर्वेशन स्लिप में अपना मोबाइल नंबर लिखने के लिए कहा गया है।

उन्होंने कहा, “यात्रियों की सुविधा के लिए यह सेवा शुरू की गई है जिसका खर्च रेलवे वहन करेगी। कुछ राजधानी और शताब्दी ट्रेनों में इसका पहले ट्रायल किया गया था।” अधिकारी ने बताया कि इसके ट्रायल में कुछ दिक्कतें सामने आई थीं जिसे सुलझा लिया गया है। अब यह सेवा सभी राजधानी और शताब्दी ट्रेनों में उपलब्ध है। पूरे देश में 25 राजधानी और 26 शताब्दी जोड़ी ट्रेनों की आवाजाही होती है। रेलवे ने हालांकि समय की बचत के लिए कई ट्रेनों की गति बढ़ाई है, इसके बावजूद भी कुछ ट्रेनें कुछ वजहों से विलंब से चल रही हैं। ट्रैक के मरम्मत कार्य की भी वजह से देरी हो रही है।

उल्लेखनीय है कि भारतीय रेलवे अपने विभिन्न विभागों व इकाइयों के एकीकरण तथा सुदृढ़ीकरण पर जोर दे रही है ताकि उनका बेहतर और अधिकतम इस्तेमाल हो सके लेकिन इस प्रक्रिया में किसी विभाग को बंद नहीं किया जाएगा। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कुछ दिनों पहले ही यह जानकारी दी थी। उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कहा था- रेलवे के किसी विभाग को बंद नहीं किया जा रहा है। मंत्री ने संवाददाताओं से कहा था कि बदलती जरूरतों व परिस्थितियों के मद्देनजर कुछ विभागों का विलय किया जा रहा है। यह विभागों के एकीकरण व सुदृढ़ीकरण की प्रक्रिया है जिसका उद्देश्य सम्बद्ध विभागों व उसके कर्मचारियों का बेहतर और अधिकतम इस्तेमाल सुनिश्चित करना है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App