scorecardresearch

पीलीभीत: केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी को अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया

केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी को पीलीभीत में एक अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया है।

पीलीभीत: केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी को अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया
महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी

केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी को पीलीभीत में एक अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया है। समाचार एजंसी एएनआई के मुताबिक यह जानकारी सामने आ रही है। शुरुआती जानकारी के मुताबिक मेकना गांधी को सांस लेने में परेशानी के चलते अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराए जाने की बात सामने आ रही थी लेकिन अधिकारियों ने इससे इंकार दिया है। अधिकारियों के मुताबिक मेनका गांधी को पत्थरी की समस्या की वजह से अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती करया गया है। एएनआई के मुताबिक अधिकारियों ने बताया कि उन्हें(मेनका) को गाल ब्लाडर में पत्थरी की परेशानी है। वहीं तुरंत राहत पहुंचाने के लिए मेनका गांधी को दिल्ली के लिए एयरलिफ्ट भी किया जा सकता है।खबरों के मुताबिक डॉक्टरों ने उन्हें दिल्ली के लिए रेफर भी कर दिया है। डॉक्टरों की एक टीम लगातार उनकी जांच कर रही है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक मेनका गांधी अपने दो दिन के दौरे के लिए शुक्रवार को पीलीभीत पहुंची थी। वहीं तबियत बिगड़ने की वजह से उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। मेनका गांधी केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्री का पदभार संभाले हुए हैं। अपने दो दिन के दौरे पर मेनका गांधी ने आज सभागार में अधिकारियों के साथ बैठक की और विकास कार्यों का जायजा लिया। वहीं रिपोर्ट्स के मुताबिक मेनका के एक सहयोगी ने समाचार एजंसी आईएएनएस को टेलीफोन पर बताया, “मेनका गांधी को पेटदर्द की शिकायत के बाद दोपहर 3 बजे पीलीभीत के एक सरकारी अस्पताल के आपातकालीन वार्ड में भर्ती कराया गया।” उन्होंने कहा कि मंत्री को आगे के इलाज के लिए दिल्ली भेजा जाएगा।

गौरतलब है मेनका गांधी ने राज्य में प्रशासन व्यवस्था को लेकर काफी सवाल उठाए थे। 30 मई को उन्होंने उत्तर प्रदेश पुलिस पर निशाना साधा था। उन्होंने आरोप लगाया थे कि उत्तर प्रदेश पुलिस विभाग पिछले 15 वर्षों में सड़ चुका है और पिछली सरकारों ने अधिकारियों से रिश्वत लेकर उनकी तैनाती की होगी। मेनका ने कानून व्यवस्था की स्थिति के लिए पिछली सरकारों को दोषी ठहराया था और कहा था कि राज्य में पुलिस व्यवस्था अराजक स्थिति में है जिसे ठीक करना होगा।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 02-06-2017 at 03:01:57 pm
अपडेट