ताज़ा खबर
 

मीरा कुमार की फ‍िर हुई हार, जहां जीत का चांस था वहां कांग्रेस ने नहीं बनाया उम्‍मीदवार

पश्चिम बंगाल की छह सीटों के लिए अगस्त में चुनाव होने हैं। इनमें से चार सीटों पर तृणमूल कांग्रेस की दावेदारी है, जबकि कांग्रेस और सीपीएम की एक-एक सीट पर दावेदारी है।
बिहार के सासाराम से जीतने वालीं मीरा कुमार 15वीं लोकसभा की अध्यक्ष रह चुकी हैं।

लोकसभा की पूर्व स्पीकर और राष्ट्रपति पद की विपक्षी उम्मीदवार मीरा कुमार एक बार फिर हार गई हैं। वो इस बार राज्यसभा चुनाव में उम्मीदवार बनाए जाने से ही चूक गईं। पश्चिम बंगाल में होने वाले राज्य सभा चुनावों के लिए पहले उनके नाम की चर्चा थी लेकिन प्रदेश कांग्रेस की तरफ से केंद्रीय नेतृत्व को चिट्ठी भेजे जाने के बाद अब पार्टी के वरिष्ठ नेता पी भट्टाचार्य को उम्मीदवार बनाया गया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पश्चिम बंगाल प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने नई दिल्ली में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात कर राज्य सभा चुनावों के लिए अकेले उम्मीदवार के नाम पर चर्चा की है।

बता दें कि इससे पहले कांग्रेस ने सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी को समर्थन देने का मन बनाया था लेकिन अभी तक सीपीएम ने सीताराम येचुरी की उम्मीदवारी पर कोई फैसला नहीं लिया है, इसलिए कांग्रेस ने अब अपने उम्मीदवार खड़े किए हैं। पश्चिम बंगाल की छह सीटों के लिए अगस्त में चुनाव होने हैं। इनमें से चार सीटों पर तृणमूल कांग्रेस की दावेदारी है, जबकि कांग्रेस और सीपीएम की एक-एक सीट पर दावेदारी है।

हालांकि, टीएमसी के पास विधानसभा में इतना संख्या बल है कि वो एक साथ पांच लोगों को राज्यसभा भेज सकती है। दूसरे नंबर पर कांग्रेस है जो एक व्यक्ति को राज्य सभा चुनकर भेज सकती है। बता दें कि राष्ट्रपति चुनाव में टीएमसी ने यूपीए उम्मीदवार मीरा कुमार को समर्थन किया था। विधान सभा की मौजूदा संख्या बल को देखते हुए राज्य सभा की एक सीट के लिए 43 विधायकों के समर्थन की जरूरत होगी। टीएमसी के पास 211 विधायक हैं, जबकि कांग्रेस के पास 44 और सीपीआई (एम) समेत पूरे लेफ्ट के कुल 32 विधायक हैं।

इस बीच, कांग्रेस के पांच विधायक और लेफ्ट के एक विधायक ने पाला बदल लिया है। ये सभी विधायक दल बदलकर टीएमसी की तरफ हो गए हैं। हालांकि, अभी तक इनमें से किसी ने भी अपनी पुरानी पार्टी से इस्तीफा नहीं दिया है। इनमें से सिर्फ एक मानस भुइयां ने कांग्रेस से इस्तीफा दिया है। अब भुइयां टीएमसी की तरफ से राज्य सभा चुनाव में उम्मीदवार होंगे। उन्होंने पिछले साल ही कांग्रेस छोड़कर टीएमसी का दामन थामा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.