ताज़ा खबर
 

तालिबान से हो सकती है बात तो पाकिस्तान से क्यों नहीं, पीएम की बैठक से पहले बोलीं महबूबा मुफ़्ती

गुपकार अलायंस के नेताओं ने पीएम मोदी की सर्वदलीय बैठक में शामिल होने की हामी भर दी है। हालांकि महबूबा मुफ्ती ने कहा है कि केंद्र को पाकिस्तान से बात करनी चाहिए।

Edited By अंकित ओझा नई दिल्ली/श्रीनगर | Updated: June 23, 2021 10:25 AM
पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती। क्रेडिट- पीटीआई

जम्मू-कश्मीर के मामले में केंद्र सरकार की तरफ से बुलाई गई बैठक में शामिल होने के लिए गुपकार अलायंस ने भी हामी भर ली है। हालांकि जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती ने एक बार फिर ‘पाकिस्तान राग’ अलाप दिया। उन्होंने कहा कि सरकार अगर तालिबान से बात कर सकती है तो पाकिस्तान से क्यों नहीं?

महबूबा मुफ्ती ने कहा, प्रधानमंत्री को पाकिस्तान के साथ बातचीत करनी चाहिए जिससे कि कश्मीर को लेकर कोई हल निकल सके और इस क्षेत्र में शांति स्थापित हो सके। हाल ही में दोहा में तालिबान के नेताओं से बातचीत के लिए भारतीय अधिकारियों के गुप्त दौरे को लेकर उन्होंने यह बात कही।

बता दें कि 24 जून को प्रधानमंत्री मोदी ने जम्मू-कश्मीर पर बात करने के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाई है। इसमें गुपकार अलायंस भी शामिल होगा। फारूक अब्दल्ला के श्रीनगर स्थित आवास पर हुई बैठक में यह फैसला लिया गया है। इसके अलावा कांग्रेस ने भी बैठक में शामिल होने की हामी भर दी है।

दोहा में हुई गुपचुप मुलाकात?
भारत अफगानिस्तान के बदलते हालात पर भी नजर बनाए हुए है। रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत के अधिकारियों ने गुपचुप तरीके से दोहा में तालिबानी नेताओं से बातचीत की। कतर के विशेष दूत मुतलाक बिन मजीत ने एक वेब कॉन्फ्रेंस में इस बात का खुलासा किया था। उन्होंने कहा था कि भविष्य में अफगानिस्तान की राजनीति में तालिबान का अहम योगदान हो सकता है। इसलिए भारत भी उनसे बातचीत कर रहा है।

अजित डोभाल को मिली है कमान!
बताया जा रहा है कि भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल को इस बातचीत का जिम्मा दिया गया था। सरकार की ओर से इस मामले में अब तक कुछ नहीं कहा गया है। भारत वर्तमान में अफगानिस्तान सरकार के साथ है लेकिन अगर वहां कोई बदलाव होता है तो तालिबान भी नीति निर्धारण में आगे आ सकता है।

विदेश मंत्री जयशंकर भी इस समय खाड़ी देशों के दौरे पर हैं। मंगलवार को उन्होंने कहा था कि अफगानिस्तान में स्थायी शांति की जरूरत है। उन्होंने अतंकवाद के खिलाफ भी सख्त बयान दिए। उन्होंने यह भी कहा कि अफगानिस्तान में आतंकियों के पनाहगाह को तत्काल नष्ट किया जाना चाहिए।

Next Stories
1 श्यामा प्रसाद मुखर्जी: लॉर्ड माउंट बेटन को लिखी थी बंगाल बंटवारे के लिए चिट्ठी; जम्मू कश्मीर में हुई मौत का रहस्य आज तक है अनसुलझा
2 कभी खुद को बताते थे PM मोदी का “हनुमान”, अपनों से दगा के बाद बोले- BJP ने भी अकेला छोड़ा
3 Windows 11 Launch : कंप्यूटर व लैपटॉप के लिए आ रहा है नया ओएस, मिलेंगे ये खास फीचर्स
ये पढ़ा क्या?
X