ताज़ा खबर
 

पुलवामा हमला: महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला की साझा गुहार, कश्मीरियों को सुरक्षा दे केंद्र सरकार

नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने पूरे देश में साम्प्रदायिक सौहार्द बनाए रखने की अपील की। केंद्र सरकार से कश्मीरियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का अनुरोध किया।

Mehbooba Mufti, omar abdullah, kashmir, kashmir terror attack, kashmir terror attack news, jammu and kashmir terror attack, awantipora kashmir, awantipora kashmir terror attack, awantipora kashmir terror attack news, awantipora kashmir terrorist attack, pulwama attackउमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती। (Express Photo by Shuaib Masoodi)

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती ने सोमवार को केंद्र सरकार से साझा गुहार लगाते हुए पूरे देश में सामप्रदायिक सौहार्द बनाए रखने और केन्द्र से अन्य राज्यों में निवास कर रहे कश्मीरियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का अनुरोध किया है। पुलवामा में सीआरपीएफ के जवानों पर हुए आतंकवादी हमले के बाद देश के विभिन्न हिस्सों में कश्मीरियों पर हो रहे हमलों की सूचनाओं की पृष्ठभूमि में यह अपील आयी है। दोनों नेताओं ने पूरे देश में साम्प्रदायिक सौहार्द बनाए रखने की अपील की। बता दें कि गुरुवार को हुए हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे।

नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने कहा कि ‘‘कश्मीरियों पर हमले कर, उन्हें डरा कर हम कश्मीरी युवाओं/बच्चों को परोक्ष रूप से यह बता रहे हैं कि घाटी से बाहर उनका कोई भविष्य नहीं है।’’ उन्होंने कहा कि कश्मीरियों को डराने का लक्ष्य भारत के विभिन्न समुदायों के बीच अलगाव पैदा करना है।

महबूबा मुफ्ती ने पुलवामा मुठभेड़ में शहीद हुए सैनिकों के परिजनों के प्रति संवेदनाएं जताते हुए कहा कि यह खूनी खेल तभी रूकेगा जब केन्द्र जम्मू-कश्मीर को लेकर अपना रवैया बदलेगा। जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया है, ‘‘परिजनों के प्रति गहरी संवेदनाएं। खूनी खेल तभी रूकेगा जब भारत सरकार जम्मू-कश्मीर को लेकर अपना रवैया बदलेगी।’’ उन्होंने पाकिस्तान को लेकर ‘‘अपना जुनून खत्म करने’’ और अपने घर को संभालने की जरूरत पर बल दिया। उन्होंने कहा, ‘‘पाकिस्तान को लेकर जुनून छोड़ें और अपने घर को संभालें। मौजूदा रूख से हालात बिगड़ेंगे ही और देश का ध्रुवीकरण होगा।’’

गौरतलब है कि पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद देहरादून में कश्मीरी छात्रों से बदसलूकी की खबरों के बीच घाटी के 300 से अधिक छात्र अपने घर वापस जाने के लिए उत्तराखंड और हरियाणा से मोहाली पहुंचे हैं। उत्तराखंड की राजधानी में पढ़ने वाले कुछ कश्मीरी युवकों ने आरोप लगाया है कि उनके साथ बदसलूकी की गई और उनके मकान मालिकों ने उन्हें मकान खाली करने के लिए भी कहा क्योंकि उन्हें (मकान मालिकों) डर था कि छात्रों की वजह से उनकी संपत्ति पर हमला किया जाएगा। वहीं, देश के अन्य हिस्सों से भी कश्मीरियों के साथ दुर्व्यवहार की खबरें आ रही है। (भाषा इनपुट के साथ)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 चुनावों से पहले मोदी सरकार को 28000 करोड़ रुपये देगी RBI, समय पूर्व लाभांश देने का फैसला
2 पूर्व पुलिस अधिकारी ने बताया- एक थप्पड़ में गिर गया था मसूद अजहर, उगल दिए थे सारे राज
3 जेनेवा में पाकिस्‍तानी AG से हुआ सामना तो भारतीय अफसर ने नहीं मिलाया हाथ, नमस्‍ते से दिया जवाब
आज का राशिफल
X