ताज़ा खबर
 

जिन्हें “विभाजनकारी लोकतंत्र” नहीं चाहिए वे उत्तर कोरिया चले जाएं- मेघालय गवर्नर तथागत राय ने मारा ताना

उनका ये ट्वीट प्रदर्शनकारियों के राजभ­वन पहुंचने से कुछ घंटे पहले आया। प्रदर्शनकारियों ने जब सुरक्षा का उल्लंघन करने की कोशिश की, तो उन पर लाठीचार्ज किया गया था, जिसमें कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए।

Author नई दिल्ली | Updated: December 13, 2019 10:32 PM
तथागत रॉय ने शुक्रवार को यह कहकर विवाद खड़ा कर दिया कि जो लोग ‘‘विभाजनकारी लोकतंत्र’’ नहीं चाहते हैं, वह उत्तर कोरिया चले जाएं।(फोटो-PTI)

मेघालय के राज्यपाल तथागत रॉय ने शुक्रवार को नागरिकता संशोधन विधेयक का विरोध कर रहे लोगों पर ताना मारते हुए कहा कि जो लोग ‘‘विभाजनकारी लोकतंत्र’’ नहीं चाहते हैं, वह उत्तर कोरिया चले जाएं। रॉय ने ट्वीट किया, ‘‘ लोकतंत्र अनिवार्य रूप से विभाजनकारी है। अगर आप इसे नहीं चाहते हैं तो उत्तरी कोरिया चले जाइए।’’ राज्यपाल इस ट्वीट के जरिए परोक्ष रूप से नए नागरिकता कानून का समर्थन कर रहे थे।

उन्होंने कहा, ‘‘विवाद के वर्तमान माहौल में दो बातों को कभी नहीं भूलना चाहिए – 1. देश को कभी धर्म के नाम पर विभाजित किया गया था। 2. लोकतंत्र अनिवार्य रूप से विभाजनकारी है। अगर आप इसे नहीं चाहते तो उत्तर कोरिया चले जाइए।’’ उत्तर कोरिया में तानाशाह किम जोंग-उन का शासन है।


उनका ये ट्वीट प्रदर्शनकारियों के राजभ­वन पहुंचने से कुछ घंटे पहले आया। प्रदर्शनकारियों ने जब सुरक्षा का उल्लंघन करने की कोशिश की, तो उन पर लाठीचार्ज किया गया था, जिसमें कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। हाथापाई में दो पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं।

प्रदर्शनकारी राज्यपाल से मांग कर रहे थे कि वह बाहरी लोगों के राज्य में प्रवेश पर अनिवार्य पंजीकरण के लिए प्रस्तावित अध्यादेश को अपनी सहमति दें और साथ ही केंद्र राज्य में इनर लाइन परमिट को लागू करें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 CAB विरोध: जामिया में पुलिस ने छोड़े आंसू गैस के गोले, मची भगदड़, वीडियो वायरल
2 मुस्लिम पैनलिस्ट ने रेप को धर्म से जोड़ा, भड़के एंकर, कहा- शर्म आनी चाहिए
3 पानीपत के बाद अब अजय देवगन की तानाजी फिल्म विवादों में फंसी, कोली राजपूत संघ दिल्ली हाईकोर्ट में दायर की याचिका
ये पढ़ा क्‍या!
X