ताज़ा खबर
 

कुतिया की मौत पर भी नेताओं का शोक संदेश आता है, 250 किसानों की मौत पर कोई ना बोला- राज्यपाल सत्यपाल मलिक का केंद्र पर हमला

कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) का ही मुद्दा है। यदि इसको कानूनी रूप दे दिया जाए तो यह मामला आसानी से हल हो सकता है। देशभर के किसानों के बीच यह एक बड़ा मुद्दा बन चुका है। ऐसे में इसे जल्द हल करना चाहिए।

farmers protest, farm laws, MSPमेघालय के राज्यपाल सत्य पाल मलिक। (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस फाइल)

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा है कि किसान आंदोलन काे लंबे समय तक चलते रहना न किसानों के हित में है और न ही सरकार के हित में है। बेहतर होगा इसका मिल बैठकर तत्काल निराकरण किया जाए। यह ऐसा मामला नहीं है, जिसका हल नहीं मिल रहा है। उन्होंने कहा कि “कुतिया भी मर जाती है तो उसके लिए भी हमारे नेताओं का शोक संदेश आता है, लेकिन 250 किसान मर गए, लेकिन अब तक कोई बोला भी नहीं। ये सब मेरी आत्मा को दर्द देता है।”

राजस्थान के झुंझुनूं में एक निजी कार्यक्रम में पहुंचे राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि किसान आंदोलन में कोई समस्या नहीं है। बस इसको समझने और सुलझाने की जरूरत है। कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) का ही मुद्दा है। यदि इसको कानूनी रूप दे दिया जाए तो यह मामला आसानी से हल हो सकता है। देशभर के किसानों के बीच यह एक बड़ा मुद्दा बन चुका है। ऐसे में इसे जल्द हल करना चाहिए। वे बोले, “मैं संवैधानिक पद पर हूं। बिचौलिया बन कर काम नहीं कर सकता।

किसान नेताओं और सरकार के नुमाइंदों को सिर्फ सलाह दे सकता हूं, मेरा सिर्फ इतना सा ही रोल है।” किसान आंदोलन पर बात करते हुए मलिक ने कहा कि किसानों के उचित मूल्य ना मिलने का मुद्दा आज का नहीं है। अंग्रेजों के समय भी ऐसा होता था।

राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा ब्रिटिश शासन के दौरान मंत्री रहे छोटूराम और वायसराय के किस्सा भी शेयर करते हुए कहा कि द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान वायसराय मंत्री छोटूराम से मिले और उनसे अनाज की मांग की, छोटूराम ने कहा कि अनाज किस मूल्य पर देना है, यह मैं तय करूंगा।

वायसराय ने जवाब में छोटूराम से कहा कि अनाज तो तुम्हें मेरे मूल्य पर देना ही पड़ेगा, नहीं दोगे तो मैं सेना भेजकर जबरन अनाज ले लूंगा। इस पर छोटूराम ने कहा कि मैं किसानों से बोल दूंगा कि खड़ी फसल में आग लगा दे, लेकिन वायसरा को कम कीमत पर गेहूं हर्गिज ना दें।

Next Stories
1 पुदुचेरी चुनावः कांग्रेस ने जारी की 14 उम्मीदवारों की लिस्ट, पूर्व सीएम नारायणसामी का नाम गायब
2 खिसकता जनाधार और बढ़ता कंफ्यूजन, मतदान से पहले इन 5 चुनौतियों से कैसे निपटेगा लेफ्ट-कांग्रेस गठबंधन
3 असम में भाजपा की सरकार, पर प्रचार रैली में बोले CM योगी- यहां पिछड़ेपन के लिए कांग्रेस जिम्मेदार
ये पढ़ा क्या?
X