scorecardresearch

Delhi Pollution: दिल्ली में धुआं छोड़ रही थी यूपी की बस, कट गया एक लाख रुपए का चालान

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मुख्य सचिव ने ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट को 50 टीमें बनाने का निर्देश दिया और कहा कि धुआं छोड़ने वालीं गाड़ियों को जब्त किया जाए और उनसे भारी जुर्माना वसूला जाए।

Delhi Pollution: दिल्ली में धुआं छोड़ रही थी यूपी की बस, कट गया एक लाख रुपए का चालान
प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (Delhi Pollution Control Committee) और ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट ने सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद से धुआं छोड़ने वाली गाड़ियों के खिलाफ स्पेशल टीम गठित कर इन पर कार्रवाई करना शुरू कर दिया है। इसके तहत 20 से ज्यादा गाड़ियों को जब्त कर लिया गया है, जिन गाड़ियों से ज्यादा धुआं निकल रहा है, उनको जब्त कर भारी चालान किया जा रहा है। चालान की रकम 50 हजार से 1 लाख रुपये तक पहुंच रही है।

यूपी की बस का कटा एक लाख का चालान: बता दें कि गुरुवार (21 नवंबर) को दिलशाद गार्डन टोल पॉइंट के पास एक लाख रुपये का चालान किया गया है। इस बस से बहुत ज्यादा धुआं निकल रहा था। यह बस मेरठ से कश्मीरी गेट आईएसबीटी के बीच चलती है। एक अधिकारी ने बताया कि यूपी की इस बस से इतना ज्यादा धुआं आ रहा था कि इसके आस-पास खड़ा होना भी मुश्किल हो रहा था। दिल्ली के प्रमुख जगहों पर यह टीमें मौजूद हैं और ये बसों, ट्रकों आदि कमर्शियल गाड़ियों पर खास नजर रख रही है। यह टीम मुख्य रुप से विजिबल प्रदूषण के खिलाफ काम कर रही है, ताकि इसे जल्द से जल्द कंट्रोल किया जा सके।

Hindi News Today, 22 November 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की अहम खबरों के लिए क्लिक करें

विजिबल प्रदूषण के खिलाफ कड़ी कार्रवाई: गौरतलब है कि दिल्ली के मुख्य सचिव ने 16 नवंबर को ट्रांसपोर्ट, ट्रैफिक पुलिस, एनडीएमसी, एमसीडी, रेवेन्यू, पीडब्ल्यूडी, डीएसआईआईडीसी समेत कई विभागों के अधिकारियों के साथ मीटिंग की और सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के अनुसार विजिबल प्रदूषण के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का आदेश दिया था।

गाड़ियों के ईंधन की भी जांच: सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मुख्य सचिव ने ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट को 50 टीमें बनाने का निर्देश दिया और कहा कि धुआं छोड़ने वाली गाड़ियों को जब्त किया जाए और उनसे भारी जुर्माना वसूला जाए। साथ ही इन गाड़ियों के ईंधन की जांच भी करवाई जा रही है।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट