ताज़ा खबर
 

विदेश मंत्रालय ने कहा, सरताज अजीज के भारत दौरे के बारे में अभी तक पुष्टि नहीं

अजीज ने कहा था कि उनका भारत दौरा दोनों मुल्कों (भारत-पाक) के तनाव को ‘खत्म’ करने के लिए ‘अच्छा अवसर’ साबित हो सकता है।

Author नई दिल्ली | Published on: November 17, 2016 9:13 PM
पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के विदेश मामलों पर सलाहकार सरताज अजीज। (एपी फाइल फोटो)

भारत ने गुरुवार (17 नवंबर) को कहा कि अमृतसर में तीन और चार दिसम्बर को होने वाले हार्ट ऑफ एशिया (एचओए) सम्मेलन में पाकिस्तान के हिस्सा लेने के बारे में अभी तक पुष्टि नहीं की गई है। प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के एक शीर्ष सहयोगी ने कहा था कि वह सम्मेलन में शिरकत करेंगे। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा, ‘एचओए सम्मेलन में पाकिस्तान की भागीदारी के बारे में हमें अभी तक कोई जानकारी नहीं दी गई है।’ उनसे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज के बयान के बारे में पूछा गया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि अफगानिस्तान पर होने वाले सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए वह भारत जाएंगे। अजीज ने कहा था कि यह दौरा भारत-पाक तनाव को ‘खत्म’ करने के लिए ‘अच्छा अवसर’ साबित हो सकता है।

पीटीवी ने अजीज के हवाले से कहा, ‘भारत ने पाकिस्तान में दक्षेस शिखर सम्मेलन में हिस्सा नहीं लेकर इसे तहस नहस कर दिया था लेकिन भारत में आयोजित होने वाले हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन में पाकिस्तान हिस्सा लेगा। यह तनाव को खत्म करने का अच्छा अवसर है।’ पिछले वर्ष दिसम्बर में एचओए की बैठक का आयोजन पाकिस्तान ने किया था और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज इसमें शामिल हुई थीं जिसके बाद उनकी अजीज के साथ द्विपक्षीय वार्ता हुई थी। दोनों पक्षों ने व्यापक द्विपक्षीय वार्ता (सीबीडी) को बहाल करने की घोषणा की थी, जो आतंकवादी हमले के कारण कभी हो नहीं पाई। भारत ने हाल में इस्लामाबाद में होने वाले दक्षेस शिखर सम्मेलन का बहिष्कार किया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 जानिए क्यों नोटबंदी से यूपी में बीजेपी को हो सकता है फायदा, कांग्रेस भी है डरी हुई
2 अब सोना जमा करने वालों पर निशाना साधेंगे नरेंद्र मोदी, ऐसी अफवाहों से उड़ी व्‍यापारियों की नींद
3 गुलाम नबी आजाद बोले- उरी हमले में उतने लोग नहीं मारे गए, जितने सरकार की गलत नीति से मर गए
जस्‍ट नाउ
X