X

BSF जवान के साथ बर्बरता के बावजूद पाक विदेश मंत्री से मिलेंगी सुषमा स्वराज, अमेरिका में होगी मुलाकात

रवीश कुमार ने संवाददाताओं से बातचीत में हालांकि जोर दिया कि इससे पाकिस्तान के लिए हमारी नीति में किसी तरह के बदलाव का कोई संकेत नहीं मिलता। उन्होंने कहा, ‘‘दोनों देशों के स्थाई मिशन स्वराज और कुरैशी के बीच बैठक की तारीखों को अंतिम रूप देने पर काम कर रहे हैं ।’’

भारत ने गुरूवार (20 सितंबर) को कहा कि न्यूयार्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक से इतर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और उनके पाकिस्तानी समकक्ष शाह महमूद कुरैशी के बीच बैठक होगी। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने यह जानकारी दी। रवीश कुमार ने संवाददाताओं से बातचीत में हालांकि जोर दिया कि इससे पाकिस्तान के लिए हमारी नीति में किसी तरह के बदलाव का कोई संकेत नहीं मिलता। उन्होंने कहा, ‘‘दोनों देशों के स्थाई मिशन स्वराज और कुरैशी के बीच बैठक की तारीखों को अंतिम रूप देने पर काम कर रहे हैं ।’’ यह पूछे जाने पर कि बैठक का एजेंडा क्या होगा, उन्होंने कहा, ‘‘ हमने बैठक के एजेंडे को अभी अंतिम रूप नहीं दिया है।’’ उन्होंने कहा कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और उनके पाकिस्तानी समकक्ष शाह महमूद कुरैशी के बीच यह बैठक संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) सम्मेलन से इतर होगी।

बता दें कि दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बीच ये मुलाकात उस वक्त होने वाली जब सीमा पर पाकिस्तान ने अपनी कायराना हरकत दुहराते हुए एक भारतीय जवान के साथ बर्बरता की है। पाकिस्तानी सैनिकों ने जम्मू-कश्मीर के सांबा सेक्टर में तैनात बीएसएफ जवान नरेंद्र सिंह को पाकिस्तानी सैनिकों ने धोखे से पहले अगवा कर लिया। इसके बाद उनके साथ पाकिस्तानियों ने वहशियों जैसा व्यवहार किया। पाक सैनिकों ने उनका गला काट डाला, उन्हें करंट लगाये और उनकी आंखें निकाल ली। पाकिस्तान के इस हरकत के बाद भारत में काफी रोष है। लोग पाकिस्तान से बदले की मांग कर रहे हैं। इसके अलावा पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर दोनों देशों के बीच वार्ता शुरू करने की मांग की थी।

इधर विदेश मंत्रालय ने कहा कि यह बैठक पाकिस्तान के अनुरोध पर आयोजित की जा रही है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि सुषमा स्वराज संयुक्त राष्ट्र महासभा से इतर सार्क देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक में भाग लेंगी। उल्लेखनीय है कि यूएनजीए की उच्च स्तरीय बैठक की शुरूआत 25 सितंबर को होगी। रिपोर्ट के मुताबिक सुषमा स्वराज इस बैठक में शाह महमूद कुरैशी के समक्ष करतारपुर साहब कारिडोर के मुद्दे को उठायेंगी।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने संवाददाताओं से कहा कि देश में सभी राजनीतिक दलों ने इस मुद्दे को उठाया है और हाल ही में केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने भी विदेश मंत्री को चिठ्ठी लिखी थी। इसका जवाब देते हुए विदेश मंत्री ने कहा था कि वह इस विषय को पाकिस्तानी सरकार के समक्ष उठायेंगी। इस विषय को नवजोत सिंह सिद्धू ने भी उठाया था। उन्होंने कहा, ‘‘ अभी तक हमारे पास से ऐसा कोई आधिकारिक संवाद नहीं है कि पाकिस्तान की सरकार इस विषय पर विचार करने को इच्छुक है। और इसलिये विदेश मंत्री :यूएनजीए: बैठक से इतर अपने पाकिस्तानी समकक्ष के समक्ष इस मुद्दे :करतारपुर साहब कारिडोर: को उठायेंगी। ’’ कुमार ने कहा कि करतारपुर साहब तक जाने को लेकर कई खबरें सामने आ रही है और इस विषय को अतीत में पाकिस्तानी पक्ष के समक्ष कई बार उठाया गया।

विदेश मंत्रालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार, भारत और पाकिस्तान के बीच धार्मिक स्थलों की यात्रा के संबंध में 1974 में एक प्रोटोकाल हुआ था, इस प्रोटोकाल में करतारपुर साहिब शामिल नहीं है। 1999 में लाहौर की यात्रा के दौरान तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने इस मुद्दे को उठाया था और इस धार्मिक स्थल की वीजा मुक्त यात्रा पर विचार करने का अनुरोध किया था जो सिखों की धार्मिक आस्थाओं से जुड़ा हुआ है।

  • Tags: UNGA,