चुनावी सर्वे पर मायावती ने दागा सवाल- गले से नीचे नहीं उतर रहा था, याद दिलाई 2007 चुनाव की बात

सर्वे के अनुसार 403 सदस्यों वाले विधानसभा में बीजेपी को 41.8 प्रतिशत, एसपी को 30.2 प्रतिशत, बीएसपी को 15.07 प्रतिशत और कांग्रेस 5.1 प्रतिशत वोट मिलने की संभावना है।

Mayawati, BSP, UP Election
बसपा प्रमुख मायावती (Photo- Indian Express)

एबीपी न्यूज-सी वोटर चुनाव पूर्व सर्वे में उत्तर प्रदेश में बीजेपी को बढ़त और वोट प्रतिशत में बढ़ोतरी दिखाए जाने को लेकर बसपा ने हमला बोला है। बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि यह गले नहीं उतर रहा है। उन्होंने कहा कि प्री-पोल सर्वे प्रायोजित ही नहीं बल्कि लोगों को हवा हवाई, शरारतपूर्ण और भ्रमित करने वाला ही ज़्यादा लगता है।

मीडिया से बात करते हुए मायावती ने कहा कि एक हिंदी न्यूज़ चैनल द्वारा प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनावों में बीजेपी का वोट प्रतिशत पिछली बार के 40% से भी अधिक दिखाने का प्री-पोल सर्वे प्रायोजित ही नहीं बल्कि लोगों को हवा हवाई, शरारतपूर्ण और भ्रमित करने वाला ही ज़्यादा लगता है। उन्होंने कहा कि इससे इनका खास मकसद भाजपा को मज़बूत दिखाते रहना है, साथ ही बीएसपी के लोगों के मनोबल को गिराने की भी यह साजिश है। इनको मालूम होना चाहिए कि बीएसपी के लोग इस प्रकार के षड़यंत्रों का सामना करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। वे इस सर्वे के बहकावे में नहीं आने वाले हैं।

मायावती ने 2007 के चुनाव को याद करते हुए कहा कि उस समय भी सभी सर्वे वाले हमारी पार्टी की सरकार बनने की बात कबूल करने की बजाय हमें सिर्फ सबसे बड़े दल के रूप में दिखा रहे थे। लेकिन जब चुनाव परिणाम सामने आए तो लोगों ने देखा कि बीएसपी को चुनाव में पूर्ण बहुमत प्राप्त हुआ था।

गौरतलब है कि एबीपी न्यूज और सी वोटर की तरफ से जारी किए गए सर्वे रिपोर्ट के अनुसार 403 सदस्यों वाले विधानसभा में बीजेपी को 41.8 प्रतिशत, एसपी को 30.2 प्रतिशत, बीएसपी को 15.07 प्रतिशत और कांग्रेस 5.1 प्रतिशत वोट मिलने की संभावना है। साथ ही कहा गया है कि बीजेपी को इस चुनाव में एक बार फिर से 259-267 सीट मिल सकती है। वहीं बसपा को महज 12-16 सीट मिलने की संभावना है। सपा को 109-117 और कांग्रेस को 3-7 सीटों पर जीत मिल सकती है। जबकि अन्य उम्मीदवार 6-10 सीटों पर जीत सकते हैं।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।