ताज़ा खबर
 

मौलाना बोले- म्यूजिकल नाइट्स में औरतों का नाचना गैर इस्लामिक

'शादियों में बजने वाले डीजे और म्यूजिक पर पाबंदी रहेगी या उस जगह पर महिला और मर्द साथ में नहीं दिखाई देंगे। इस्लाम में बताया गया है कि महिलाओं को पर्दे में ही रहना चाहिए।'

मजलिस-ए-शौरा ने फतवा जारी किया है। (फोटो सोर्स : Indian Express)

जम्मू-कश्मीर के एक धार्मिक समूह मजलिस-ए-शौरा के मौलवी ने महिलाओं को अकेले सार्वजनिक स्थानों पर जाने से रोकने को लेकर एक फतवा जारी किया है। साथ ही कहा कि ब्यूटी पार्लर जाना सही नहीं है। इसे लेकर जम्मू में पोस्टर लगाए चस्पा कर दिए गए हैं ताकि सभी लोग इससे वाकिफ हो सकें और पालन करें। इस फतवे के अलावा संस्था की तरफ से कई और भी बेतुके निर्देश जारी किए गए हैं।

मजलिस-ए-शौरा ने कहा है कि, सगाई और विवाह समारोहों में संगीत पर प्रतिबंध हो, यहां सभी एक साथ नाचते हैं। मुस्लिम लड़कियां गैर इस्लाम लड़कों के साथ देखी जाती हैं। जो गैर इस्लामिक है। लड़कियों और महिलाओं का ब्यूटी पार्लर जाना सही नहीं है। साथ ही कहा गया है कि लड़कों और लड़कियों को अलग-अलग वर्गों में पढ़ाया जाना चाहिए और यहां तक कि पुरुषों के साथ मिलकर महिलाओं के प्रदर्शनियों और सर्कस जाने पर भी निर्देश जारी किए हैं।

मजलिस-ए-शौरा के प्रेसीडेंट ने कहा, “हम उम्मीद करते हैं जो दिशा निर्देश जारी किए गए हैं, उनके हिसाब से ही लोग चलेंगे। कोई भी गैर इस्लामिक काम नहीं होगा। शादियों में बजने वाले डीजे और म्यूजिक पर पाबंदी रहेगी या उस जगह पर महिला और मर्द साथ में नहीं दिखाई देंगे। इस्लाम में बताया गया है कि महिलाओं को पर्दे में ही रहना चाहिए। औरतों को गैर मुस्लिम आदमियों से बात नहीं करनी चाहिए।”

उन्होंने कहा, “लगभग दो से तीन हफ्ते पहले हमने जामा मस्जिद के साथ-साथ अन्य मस्जिद से उन लोगों के नामों का खुलासा करने को कहा था जो इसका पालन नहीं करते। यही कारण है कि हमने यहां कुछ लोगों का नाम दिया है।”

गैरतलब है कि, उत्तर प्रदेश के देवबंद स्थित दारूम उलूम ने मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ नेल पॉलिश के इस्तेमाल और नाखून काटने को लेकर एक फतवा जारी किया था। इसमें नेल पॉलिश को गैर इस्लामिक और मेहदी इस्लामिक बताया गया था। दारूल उलूम ने कहा था कि नेल पॉलिश की जगह महिलाओं को मेंहदी का इस्तेमाल करना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App