ताज़ा खबर
 

रविदास मंदिर तोड़ने के विरोध में दलितों ने जंतर-मंतर पर किया प्रदर्शन, बोले- हम खून-खराबे के लिए भी तैयार

तुगलकाबाद में गुरु रविदास का मंदिर तोड़े जाने के विरोध में दलित समुदाय के लोगों ने बुधवार (21 अगस्त) को दिल्ली में जंतर-मंतर पर प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार दोबारा मंदिर बनवाए, वरना यह प्रदर्शन लगातार जारी रहेगा।

रविदास मंदिर तोड़ने के विरोध में दलितों ने दिल्ली में किया प्रदर्शन। फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस

तुगलकाबाद में गुरु रविदास का मंदिर तोड़े जाने के विरोध में दलित समुदाय के लोगों ने बुधवार (21 अगस्त) को दिल्ली में जंतर-मंतर पर प्रदर्शन किया। इस दौरान दलितों ने रामकृष्ण आश्रम मार्ग स्थित अंबेडकर भवन से अपना मार्च शुरू किया, जो जंतर-मंतर तक जारी रहा। इस दौरान दलितों ने कहा कि हम खून-खराबे के लिए भी तैयार हैं। केंद्र सरकार दोबारा मंदिर बनवाए, वरना यह प्रदर्शन लगातार जारी रहेगा।

जानें क्या बोले दलित?: टाइम्स नाऊ की रिपोर्ट के मुताबिक, दलितों ने कहा, ‘‘हमारा रविदास मंदिर टूटा है, उसे बनवाया जाए। नहीं तो फिर खून-खराबा हो जाएगा। हम इसके लिए तैयार हैं।’’ गौरतलब है कि इस दौरान देश के कोने-कोने से दलित समुदाय के लोग जंतर-मंतर पहुंचे थे।

National Hindi News, 21 August 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की तमाम अहम खबरों के लिए क्लिक करें 

केंद्र सरकार से की यह मांग: दलितों ने कहा, ‘‘हम केंद्र सरकार से मांग करते हैं कि तुगलकाबाद में तोड़े गए रविदास मंदिर को दोबारा बनवाया जाए। यह मंदिर बनना चाहिए। अगर मंदिर नहीं बनवाया जाएगा तो हम प्रदर्शन करेंगे। मंदिर बनने तक हम जंतर-मंतर से नहीं हटेंगे।’’

Bihar News Today, 21 August 2019: बिहार से जुड़ीं सभी खास खबरों के लिए क्लिक करें

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद तोड़ा गया था मंदिर: बता दें कि तुगलकाबाद स्थित गुरु रविदास के मंदिर को डीडीए ने ध्वस्त किया था। डीडीए ने यह कार्रवाई सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर की थी। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने 9 अगस्त को आदेश दिया था कि डीडीए दिल्ली पुलिस की मदद से कल तक यह जमीन खाली कराए और मौजूदा ढांचे को हटा दे।

दलितों ने दिया अयोध्या का हवाला: मंदिर ढहाए जाने के बाद दलित एक्टिविस्ट अशोक भाटी ने कहा, ‘‘यदि अयोध्या में राम मंदिर बनाने की मांग हिंदू समाज के लिए महत्वपूर्ण है। ऐसे में गुरु रविदास मंदिर को उस ऐतिहासिक स्थान से हटाया क्यों गया, जहां वह बना हुआ था।’’ इस दौरान दलित संगठनों ने एकजुट होकर 21 अगस्त को दिल्ली में प्रदर्शन करने का आह्वान किया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कश्मीर पर फ्रांस और बांग्लेदाश का मिला समर्थन, बोले- यह भारत-पाक का द्विपक्षीय मामला
2 ट्रैफिक मामलों में एक सितंबर से भरना होगा ज्यादा जुर्माना, 63 नए नियम हो रहे लागू
3 गुजरात: महात्मा गांधी ने जिस परिवार को दी थी सिर छिपाने की जगह, साबरमती आश्रम छोड़ने का मिला आदेश
IPL 2020 LIVE
X