ताज़ा खबर
 

मेडिसन स्क्वायर में दिखा रॉकस्टार मोदी का जलवा, कहा: विकास को बनाना होगा जन आंदोलन

अनिता कत्याल व एजंसियां न्यूयार्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि भारत की जनता ने उन्हें जो दायित्व दिया है, वे उसे पूरा करेंगे और ऐसा कुछ नहीं करेंगे जिससे लोगों को नीचा देखना पड़े। अनिवासी भारतीयों की विशाल भीड़ को संबोधित करते उन्होंने विश्वास दिलाया कि भारत तेज गति से आगे बढ़ेगा […]

Author September 29, 2014 4:12 PM

अनिता कत्याल व एजंसियां

न्यूयार्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कहा कि भारत की जनता ने उन्हें जो दायित्व दिया है, वे उसे पूरा करेंगे और ऐसा कुछ नहीं करेंगे जिससे लोगों को नीचा देखना पड़े। अनिवासी भारतीयों की विशाल भीड़ को संबोधित करते उन्होंने विश्वास दिलाया कि भारत तेज गति से आगे बढ़ेगा और 21वीं शताब्दी के विश्व की अगुआई करेगा। मोदी ने अपने भाषण में भारतीय अमेरिकियों को खूब रिझाया और उनसे भारत के विकास में भागीदार बनने की भावुक अपील की। मेनहट्टन के बीचोंबीच मेडिसन स्क्वायर गार्डन में एक अनूठे कार्यक्रम में मोदी ने कहा कि लोकसभा में बड़ी जीत के साथ उन पर बड़ी जिम्मेदारी आई है, जिसे वे पूरा करेंगे। कार्यक्रम में जोश से भरपूर करीब 20 हजार अनिवासी भारतीय मौजूद थे। भारत के फायदों को गिनाते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि लोकतंत्र, जनसांख्यिकी लाभ और मांग इसकी मजबूतियां हैं। भारत की 65 फीसद से ज्यादा आबादी 35 साल की आयु से कम है और चूंकि भारत के पास विशाल बाजार है, इसलिए इसकी बहुत मांग है।

उत्साही भीड़ के ‘मोदी-मोदी’ के गगनभेदी नारों के बीच प्रधानमंत्री ने कहा कि मेरी सरकार लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करने में शत प्रतिशत सफल रहेगी। आपको विश्वास दिलाता हूं कि जिस आर्थिक बदलाव और सामाजिक बदलाव के लिए आपने इस सरकार को चुना है, उसे पूरा करने में कोई कमी नहीं होगी।

पीला कुर्ता और केसरिया नेहरू जैकेट पहने मोदी ने खचाखच भरे इस इंडोर स्टेडियम में लोगों को मंत्रमुग्ध कर लिया। उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास विकास को जन आंदोलन बनाना है। ‘भारत माता की जय’ के घोष के साथ शुरू हुए और एक घंटे से अधिक समय तक चले संबोधन में मोदी ने लोगों को नवरात्र की शुभकामनाएं दी। मोदी ने सुशासन का वादा करते हुए कहा कि 30 साल के अंतराल के बाद भारत को केंद्र में स्पष्ट बहुमत वाली सरकार मिली है। उन्होंने लोकसभा चुनाव से पहले चुनावी नतीजों के अनुमानों पर तंज कसते हुए कहा- कोई भी राजनीतिक पंडित या जनमत को प्रभावित करने वाले इस प्रकार के जनादेश को भांप नहीं पाए।

मोदी ने कहा कि चुनाव जीतने के साथ ही एक बड़ी जिम्मेदारी आ गई है। उन्होंने कहा, ‘जब से मैंने काम संभाला है (प्रधानमंत्री का पद) मैंने 15 मिनट की भी छुट्टी नहीं ली है। अपने सामर्थ्य से अपना भविष्य बनाने के लिए हम कृतसंकल्प हैं। इस बारे में देश को पीछे मुड़ कर देखने की जरूरत नहीं और निराशा का कोई कारण नहीं। मैं विश्वास दिलाता हंू कि यह देश बहुत तेज गति से आगे बढ़ने वाला है।’ उन्होंने कहा कि 21वीं शताब्दी भारत की होगी। 2020 तक केवल भारत ही विश्व को मानव बल मुहैया कराने की स्थिति में होगा।

भाषण के अंत में पीआइओ (पर्सन आॅफ इंडियन ओरिजिन) कार्ड धारकों को आजीवन वीजा देने की मोदी की घोषणा का वहां मौजूद भारतीयों ने बेहद गर्मजोशी से स्वागत किया। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि लंबी अवधि तक भारत में रहने वाले अनिवासी भारतीयों को पुलिस थाने में जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। उन्होंने कहा कि पर्यटन के मकसद से भारत आने वाले अमेरिकी नागरिकों को दीर्घ अवधि का वीजा दिया जाएगा। उन्होंने अमेरिकी भारतीयों को खुशखबरी सुनाने के अंदाज में कहा कि कुछ महीनों में भारतीय मूल के लोग (पीआइओ) और ओसीआइ (ओवरसीज सिटीजनशिप आफ इंडिया) को मिलाकर एक नई स्कीम बनाई जाएंगी जिससे इनकी दिक्कतें दूर हो सकें।

मोदी ने करीब 20 हजार लोगों की भीड़ को संबोधित करते हुए कहा कि नई सरकार से बहुत उम्मीदें हैं। सरकार लोगों की आंकाक्षाओं को पूरा करने में शत प्रतिशत सफल रहेगी। प्रधानमंत्री ने पुराने पड़ चुके कानूनों को समाप्त करने की अपनी सरकार की मुहिम से अवगत कराते हुए कहा कि पहले की सरकारें इस बात पर गर्व किया करती थी कि उन्होंने ‘फलाना कानून बना दिया, ढिकाना कानून बना दिया। कांग्रेस का नाम लिए बिना उन्होंने कहा कि पूरे चुनाव में एक पार्टी यही बात कहती रही कि उसने ये-ये कानून बनाए।’ मोदी ने कहा कि मैंने इसका उल्टा शुरू किया है। मैंने जितने बेकार कानून हैं, सबको खत्म करने का फैसला किया है। इतने आउटडेटेड (पुराने पड़ चुके) कानून हैं, कोई उनके जाल में गया तो बाहर नहीं निकल सकता। अगर हर दिन एक कानून खत्म कर सकूं तो मुझे खुशी होगी।

इस आयोजन की खास बात यह थी कि समारोह स्थल पर पहुंचने से पहले ही मोदी को ‘न्यूयार्क का राजा’ घोषित किया गया। आयोजन स्थल पर उनके पहुंचने से पहले ही वहां उत्तेजना और उत्सुकता का माहौल था। उनके पूरे भाषण के दौरान गगनभेदी नारे लगते रहे और तालियों की गड़गड़ाहट होती रही। भाषण के दौरान मोदी भारतीय अमेरिकियों के मर्म को छूने में सफल रहे और नवरात्रों के उपवास में भी उन पर थकान का असर नहीं दिखा। बातचीत की शैली में भाषण देकर उन्होंने तुरंत ही वहां मौजूद लोगों से तादाम्य कायम कर लिया। मेडिसन स्क्वायर के बाहर मौजूद मोदी विरोधी प्रदर्शनकारियों का भी कोई असर नहीं हुआ और लोगों ने उनका भव्य स्वागत किया।

इस समारोह में शामिल होने के लिए लोग न्यूजर्सी और सैन फ्रांसिस्को से भी आए थे। इन लोगों ने कहा कि हम मोदी की एक झलक पाने आए थे और उनका भाषण सुनना चाहते थे, जिसके लिए वे इतने मशहूर हैं। स्टेडियम में घुसने के लिए लोग घंटों कतार में खड़े रहे पर किसी ने इसकी कोई शिकायत नहीं की। स्टेडियम के भीतर भी माहौल ऐसा ही था। तभी तो कार्यक्रम के उद्घोषक हरी श्रीनिवासन ने एलान किया, ‘मोदी पहले ही जीत चुके हैं। यह कार्यक्रम अब चुनावी रैली की तरह दिखने लगा है।’ जतिन चौरसिया नाम के एक आइटी पेशेवर ने कहा कि उन्होंने अमेरिका में किसी भारतीय प्रधानमंत्री की यात्रा को लेकर इस तरह का उत्साह नहीं देखा।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App