ताज़ा खबर
 

बलात्कार का वीडियो सामने आने पर महिला ने दी जान

एक आपत्तिजनक वीडियो क्लिप के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद सामूहिक बलात्कार की पीड़ित 40 वर्षीय एक विवाहित महिला ने कथित तौर पर आत्महत्या कर ली..
Author मुजफ्फरनगर | January 14, 2016 02:41 am
कन्नूर में माकपा और भाजपा के बीच हिंसक संघर्ष होते रहते हैं।

रेप का वीडियो वायरल होने के बाद एक आशा कार्यकर्ता ने जहर खाकर जान दे दी है। पीड़िता के पति की तहरीर पर छपार थाना पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। सामूहिक दुष्कर्म के बाद महिला के आत्महत्या करने से गुस्साए ग्रामीणों और आशा कार्यकर्ताओं ने हाईवे पर जाम लगाकर विरोध प्रदर्शन किया। जाम व हंगामे की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने प्रदर्शनकारियों को शांत कराने का प्रयास किया।

जानकारी के मुताबिक छपार थाना क्षेत्र के गांव छपरा में चालीस साल की एक विवाहिता आशा कार्यकर्ता के रूप में काम करती थी। पांच दिन पहले गांव का एक युवक शाहिब उसे बुलाने घर आया और कहने लगा कि उसके घर एक महिला को प्रसव पीड़ा हो रही है, जिस पर आशा कार्यकर्ता उसके घर गई और गर्भवती महिला को ले जाकर जिला चिकित्सालय में भर्ती करा दिया। आरोप है कि वापस लौटते समय शाहिब ने आशा कार्यकर्ता को कोई नशीला पदार्थ खिला दिया और उसके साथ रेप करते हुए वीडियो क्लिप बना ली। दो दिन पहले यह वीडियो क्लिप गांव के कई लड़कों के मोबाइल तक पहुंच गई। शाहिब पर यह भी आरोप है कि उसने वीडियो क्लिप के नाम पर महिला को ब्लैकमेल करने का भी प्रयास किया। वीडियो क्लिप वायरल होने से परेशान आशा कार्यकर्ता मंगलवार को अपने बच्चे को दवाई दिलाने बरला ले गई। वापस लौटते समय उसने छपरा मोड़ से बच्चे को गांव भेज दिया और खुद जहर खा लिया। वहां से गुजर रहे राहगीरों ने उसे अस्पताल ले जाने का प्रयास किया, लेकिन उसने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। मृतका के पति ने शाहिब के खिलाफ छपार थाने में मुकदमा दर्ज कराया। रेप की घटना में कुछ और युवकों के भी शामिल होने की चर्चा है। मामला दो संप्रदायों के बीच का होने के कारण गांव में तनाव बना हुआ है और अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। एसपी सिटी प्रदीप गुप्ता ने बताया कि पुलिस आरोपी तक पहुंच गई है और कई लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है।

मृतका के पति ने तहरीर में पुलिस को बताया कि कुछ दिन पहले गांव के ही एक मुसलिम युवक ने अपनी गर्भवती पत्नी के इलाज के लिए उसकी पत्नी को घर बुलाया। गर्भवती महिला की हालत बिगड़ जाने पर उसे जिला महिला अस्पताल भेजा गया। लौटते समय आरोपी युवक ने उसकी पत्नी को नशीला पदार्थ खिलाकर बेहोश कर दिया और उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। आरोपी ने मोबाइल से दुष्कर्म का वीडियो बना लिया और इसी वीडियो के आधार पर वह आशा कार्यकर्ता को ब्लैकमेल करता रहा। छपार पुलिस ने आरोपी युवक के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म, आत्महत्या के लिए प्रेरित करने व आईटी एक्ट के तहत रिपोर्ट दर्ज कर ली है। वहीं दूसरी ओर बुधवार को मृतका के परिजनों और ग्रामीणों ने छपार हाईवे पर जाम लगा दिया।

पुलिस का कहना था कि अंतिम संस्कार के लिए महिला का शव गांव सिमरती के रास्ते से ले जाया जाए, जबकि ग्रामीणों का कहना था कि महिला का शव सीधे छपरा ले जाया जाए। इसे लेकर ग्रामीणो में नाराजगी फैल गई और छपार हाईवे पर कई किलोमीटर तक वाहनों की लंबी कतार लग गई। जाम और हंगामे की सूचना पर पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे एडीएम प्रशासन मनोज चौहान, एसपी सिटी प्रदीप गुप्ता, सीओ सदर सहित कई थानों की पुलिस व पीएसी मौके पर पहुंच गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. Muhammed Abdullah
    Jan 14, 2016 at 6:22 am
    इस लम एक गन्दगी है , जब दुनिया का सबसे पहला धार्मिक मुचलीम दरिंदे जो की इन लोगो का आदर्श हो तो क्या हो सकता है ,
    (0)(0)
    Reply