यूपी चुनाव में ‘ब्राह्मण कार्ड’, गैंगस्टर विकास दुबे की पत्नी को चुनाव लड़ाना चाहते हैं कई दल, पहले भी लड़ चुकी हैं चुनाव

बिकरूकांड को लेकर बीएसपी भी सियासी चाल चल रही है। हाल ही में हुए प्रबुद्ध सम्मेलन में पार्टी के नेता सतीश मिश्रा ने कहा था कि बिकरू कांड में निर्दोष ब्राह्मणों को बीजेपी ने निशाना बनाया।

Vikas Dubey, Brahmin Mahasabha
विकास दुबे को पिछले साल यूपी पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया था। (फोटो- ANI)

यूपी के बिकरू हत्याकांड को आसानी से भुलाया नहीं जा सकता है। जब गैंगस्टर विकास दुबे के गुंडों ने 8 पुलिसकर्मियों को शहीद कर दिया था। हालांकि बाद में विकास दुबे के एनकाउंटर ने सूबे की ब्राह्मण राजनीति को बदल दिया है। सूत्रों से जानकारी मिली है कि कई पार्टियां विकास दुबे की पत्नी ऋचा दुबे से संपर्क में हैं और उन्हें अगले साल यूपी विधानसभा का चुनाव लड़ाना चाहती हैं।

विकास दुबे के जानकारों का कहना है कि चुनावी राजनीति के जरिए ही विकास की पत्नी अपने पति के कारनामों से हुई बदनामी को कम कर सकती हैं और अपने बच्चों का भविष्य बना सकती हैं। सूत्रों का कहना है कि विकास दुबे की पत्नी ने अब तक राजनीति की पारी खेलने का मन नहीं बनाया है। ऐसा नहीं है कि उनके पास सियासी तजुर्बा नहीं है बल्कि वे समाजवादी पार्टी के टिकट से जिला पंचायत का चुनाव भी लड़ चुकी हैं। लेकिन हत्याकांड के बाद से समाजवादी पार्टी ने ऋचा दुबे को लेकर खुलकर कुछ नहीं कहा है।

वहीं, बिकरूकांड को लेकर बीएसपी भी सियासी चाल चल रही है। हाल ही में हुए प्रबुद्ध सम्मेलन में पार्टी के नेता सतीश मिश्रा ने कहा था कि बिकरू कांड में निर्दोष ब्राह्मणों को बीजेपी ने निशाना बनाया। लेकिन मिश्रा ने विकास दुबे का नाम नहीं लिया।

मालूम हो कि पिछले साल 2 जुलाई की आधी रात को बिकरू गांव में गैंगस्टर विकास दुबे और उसके गुर्गों ने डीएसपी और एसओ समेत 8 पुलिसकर्मियों को शहीद कर दिया था। एक-एक पुलिसकर्मी को दर्जनों गोलियां मारी गयी थीं। जिसके बाद पुलिस और एसटीएफ ने मिलकर आठ दिन के भीतर विकास दुबे समेत छह बदमाशों को एनकाउंटर में ढेर कर दिया था।

इस समय मामले में 45 आरोपी जेल में बंद हैं। केस का ट्रायल जारी है। दो जुलाई 2020 की रात को चौबेपुर के जादेपुरधस्सा गांव निवासी राहुल तिवारी ने विकास दुबे व उसके साथियों पर हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कराया था। एफआईआर दर्ज करने के बाद उसी रात करीब साढ़े बारह बजे तत्कालीन सीओ बिल्हौर देवेंद्र कुमार मिश्रा के नेतृत्व में बिकरू गांव में दबिश दी गई।

यहां पर पहले से ही विकास दुबे और उसके गुर्गे घात लगाए बैठे थे। घर पर पुलिस को रोकने के लिए जेसीबी लगाई थी। पुलिस के पहुंचते ही बदमाशों ने उनपर छतों से गोलियां बरसानी शुरू कर दी थीं। चंद मिनटों में सीओ देवेंद्र मिश्रा समेत आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर बदमाश फरार हो गए थे।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट