ताज़ा खबर
 

मनोहर पर्रिकर: 26 साल में संघ में बड़ी जिम्मेदारी, 39 में विधायक, 45 में संभाली गोवा की कमान, देश के पहले IITn सीएम

Manohar Parrikar Death News: पर्रिकर का जन्म गोवा के मापुसा में हुआ था। वहीं उनकी शुरुआती पढ़ाई हुई फिर स्थानीय लॉयोला हाई स्कूल में पढ़ाई की।

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का निधन। (Express Photo by Vishal Srivastav)

Manohar Parrikar Death News: गोवा के चौथी बार मुख्यमंत्री बनने वाले मनोहर पर्रिकर का रविवार (17 मार्च) को निधन हो गया। उन्होंने दो साल पहले मार्च 2017 में चौथी बार राज्य की कमान संभाली थी। आईआईटी बॉम्बे से बीटेक और एमटेक कर सीएम बनने वाले देश के पहले शख्स थे। सीएम रहने के दौरान भी उनकी साधारण जीवन शैली चर्चा का विषय बनी रही। सीएम बनने के बाद भी पर्रिकर अपने पुश्तैनी साधारण घर में रहते थे। साधारण कपड़े पहनते थे। वो हमेशा आधी बांह वाली कमीज और साधारण पैंट में नजर आते थे।

पर्रिकर का जन्म गोवा के मापुसा में हुआ था। वहीं उनकी शुरुआती पढ़ाई हुई फिर स्थानीय लॉयोला हाई स्कूल में पढ़ाई की। स्कूल के बाद उन्हें आईआईटी मुंबई में बीटेक में दाखिला मिला। 1978 में आईआईटी मुंबई से उन्होंने एमटेक किया। इसके बाद वो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़ गए।

आरएसएस से जुड़ने के बाद पर्रिकर की प्रतिभा को संघ ने सम्मान दिया और उन्हें 26 साल की उम्र संघ ने बड़ी जिम्मेदारी दी। रामजन्मभूमि आंदोलन के दौरान पर्रिकर उत्तरी गोवा में प्रमुख संगठनकर्ता थे। 39 साल की उम्र में मनोहर पर्रिकर गोवा विधान सभा में पहली बार बतौर भाजपा विधायक चुनकर पहुंचे। इसके बाद उन्होंने राजनीति में फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। पहली बार विधायक बनने के पांच साल बाद ही पर्रिकर गोवा विधान सभा में नेता विपक्ष बन गए। इसके पांच साल बाद जब अक्टूबर 2000 में राज्य में भाजपा की सरकार बनी तब मनोहर पर्रिकर 45 साल की उम्र में सीएम बन गए। उनके नाम देश का पहला ऐसा सीएम बनने का गौरव रहा जो किसी आईआईटी से बीटेक और एमटेक कर चुको हो।

साल 2002 में जब गोवा विधान सभा चुनाव हुए तब उनकी अगुवाई में न केवल पार्टी ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की बल्कि पर्रिकर दूसरी बार राज्य के सीएम बनाए गए। साल 2005 में राजनीतिक संकट का सामना करना पड़ा। उनके चार विधायकों ने इस्तीफा दे दिया, इससे उनकी सरकार अलपमत में आ गई और गिर गई। हालांकि, 2012 में जब फिर असेंबली चुनाव हुए तब पर्रिकर की अगुवाई में पार्टी ने 40 में से 24 सीटें जीतीं और वो तीसरी बार राज्य के सीएम बने। मई 2014 में केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार बनी। इसके बाद नवंबर 2014 में नई जिम्मेदारी सौंपते हुए उन्हें रक्षा मंत्री बनाया गया। उनके कार्यकाल में कई रक्षा सौदों को मंजूरी दी गई। साल 2017 में गोवा विधान सभा चुनाव के बाद उन्होंने फिर से मार्च 2017 में चौथी बार राज्य की कमान संभाली।

Next Stories
1 मनोहर पर्रिकर: गोवा की सड़कों पर अक्सर स्कूटर से निकल जाते थे, हर वक़्त दिमाग में रहता था काम
2 मनोहर पर्रिकर का निधन, कांग्रेस ने सरकार बनाने का ठोका दावा
3 कौन हैं जस्टिस पी सी घोष? बनने जा रहे देश के पहले लोकपाल
ये पढ़ा क्या?
X