ताज़ा खबर
 

संघियों को देखते ही मेरा खून खौल उठता है- ऐसा कहने वाले बाजवा को लोगों ने याद दिलाया 84 का दंगा, तीखे सवाल भी पूछे

मनदीप सिंह बाजवा का ट्वीट सामने आते ही उन्हें निशाना बनाते हुए सवाल पूछे जाने लगे।

Author नई दिल्ली | Published on: December 12, 2017 3:11 PM
कांग्रेस से जुड़े मनदीप सिंह बाजवा की फाइल फोटो।

कांग्रेस से जुड़े मनदीप सिंह बाजवा के आरएसएस पर किए ट्वीट के वायरल होने के बाद वह लोगों के निशाने पर आ गए हैं। उन्होंने कहा था कि संघियों को देखते ही उनका खून खौल उठता है। उनकी यह बात पढ़कर जनसत्ता डॉट कॉम के कई पाठकों ने उनसे 1984 के सिख दंगों को लेकर तीखे सवाल पूछे हैं।

तीखी प्रतिक्रियाएं: सरुन कुमार ने जनसत्ता के फेसबुक पोस्ट पर कमेंट करते हुए उन पर निशाना साधा। उन्होंने लिखा, ‘कांग्रेस ने 1984 में जो किया था वो आप लोगों को बहुत पसंद है। संघ देश की बात करता है तो उसको देख कर खून खौलता है।’ एक अन्य पाठक खुशपाल अकोट ने लिखा, ‘बाजवा साहब आजाादी में जिनके परिजन शामिल रहे हैं वो देश के साथ कुछ भी कर सकते हैं क्या? आरएसएस क्या है वह आप जैसे लोग नहीं समझ सकते हैं।’ प्रतिक्रियाएं यहीं नहीं थमीं। कुमार आदित्य ने पोस्ट किया, ‘अलग खालिस्तान के समर्थकों को अखंड भारत की विचारधारा वाले संघ को देखकर खून खौलने लगे तो कोई बड़ी बात नहीं है। दीपक कपूर का नाम भी उन सैन्य अफसरों, राजनेताओं और नौकरशाहों में शुमार है, जिन लोगों को नियम-कानून का उल्लंघन कर आदर्श सोसाइटी में फ्लैट आवंटित कर दिए गए।’ संतोष मोदी ने लिखा, ‘लेकिन हमारा खून तब खौलता है जब गोपनीयता की शपथ लेने वाले सेना के जवान दुश्मनों के साथ गोपनीय बैठक करते हैं। यह अच्छा है कि उन्होंने इस तथ्य का स्वीकार किया नहीं तो इंकार की स्थिति में रहने पर वह भी कांग्रेस की तरह अपना सम्मान खो सकते थे।’

किस संदर्भ में था बाजवा का ट्वीट: बता दें कि कांग्रेस ने मणिशंकर अय्यर के घर पर पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री और उच्चायुक्त के साथ हुई बैठक को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सवाल उठाया था। बाद में पूर्व सेना प्रमुख जनरल दीपक कपूर ने खुद के इस बैठक में मौजूद होने की बात कही थी। पीएम मोदी के हमले के बाद कांग्रेस से जुड़े मनदीप सिंह बाजवा ने ट्वीट कर संघियों को देखने पर खून खौलने की बात लिख दी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 अब आम अदालतों में नहीं चलेगा नेताओं पर मुकदमा, 8 करोड़ खर्च कर स्पेशल कोर्ट बनवाएगी मोदी सरकार
2 डॉ. आंबेडकर का नहीं लिखा जा रहा सही नाम! नाराज राज्यपाल ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र
3 जम्मू-कश्मीर: हिमस्खलन की चपेट में आई सैन्य चौकी, 6 जवान लापता