ताज़ा खबर
 

ममता बनर्जी ने BJP को बताया ‘फेकुओं’ की पार्टी, बोलीं- भाजपा की दिलचस्पी फेक न्यूज देने में; अनुराग ठाकुर पर भी साधा निशाना

ममता बनर्जी ने कहा कि "मेरा जन्म हिन्दुस्तान में हुआ है, बंदूकों और गोलियों से लोगों पर हमला करवाने वाली भाजपा के शासन वाले देश में नहीं, जो समाज में नफरत फैलाती है।

Author Edited By Sanjay Dubey कोलकाता | Updated: February 5, 2020 4:53 PM
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Express File photo: Partha Paul)

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बीजेपी को फेकू पार्टी बताते हुए कहा वह सिर्फ लोगों को बंदूक का डर दिखाकर धर्म के नाम पर आपस में बांटती और आतंकित करती है। नदिया जिले के कृष्णानगर में एक सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर पर निशाना साधा और कहा कि असंवैधानिक बात बोलने के बावजूद एक केंद्रीय मंत्री अब भी सत्ता में बैठा है। उन्होंने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के बयान की भी निंदा की, जिसमें उन्होंने ‘गोली बनाम बोली’ की बात कही थी।

ममता बनर्जी ने कहा कि “मेरा जन्म हिन्दुस्तान में हुआ है, बंदूकों और गोलियों से लोगों पर हमला करवाने वाली भाजपा के शासन वाले देश में नहीं, जो समाज में नफरत फैलाती है।” टीएमसी सुप्रीमो ने बीजेपी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर सीएए, एनआरसी और एनपीआर के जरिए देश में सामाजिक और सांप्रदायिक सद्भाव बिगाड़ने की निंदा की। उन्होंने कहा कि सीएए, एनआरसी और एनपीआर काला जादू जैसे हैं। प्रस्तावित राष्ट्रव्यापी एनआरसी के खौफ से पश्चिम बंगाल में 30 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। उन्होंने बीजेपी सरकार से पूछा, “क्या आप मुझे देश से बाहर निकाल देंगे, क्योंकि मेरे पास मेरी मां का जन्म प्रमाण-पत्र नहीं है।”

उन्होने कहा कि बीजेपी मोहम्मद बिल तुगलक की वंशज है। लोगों का आह्वान किया कि देश को इससे बचाने के लिए सबको एकजुट हो जाना चाहिए। ममता बनर्जी ने ‘महाभारत’ और भारत के इतिहास के जरिए अपनी प्रतिद्वंद्वी भाजपा पर मंगलवार को जोरदार हमला बोला और देश बचाने के लिए लोगों से साथ आने की गुजारिश की। बनर्जी ने भाजपा को ‘दुशासनों की पार्टी’ और ‘मोहम्मद बिन तुगलक का वंशज’ कहा। ‘महाभारत’ में दुर्योधन का भाई दुशासन था, जबकि मोहम्मद बिन तुगलक 1325-1351 तक दिल्ली का सुल्तान था। उसे इतिहास में अटपटे फैसलों के लिए जाना जाता है।

उन्होंने कहा कि चाहे जो कुर्बानी देनी पड़े, टीएमसी देश में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए), राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) और राष्ट्रीय आबादी रजिस्टर (एनपीआर) लागू नहीं होने देगी। उन्होंने जनता से अपील की कि वह इसके खिलाफ शांतिपूर्ण विरोध करें।

Next Stories
1 नागरिकता विवादः MP कैबिनेट में CAA को पलटने से संबंधित संकल्प-पत्र पास, NPR में की गई संशोधन की मांग
2 …जब शूटिंग रेंज में पहुंचे PM नरेंद्र मोदी, अत्याधुनिक राइफल थाम लगाने लगे निशाना; देखें VIDEO
3 J&K: 5 माह बाद पीसी नेता सज्जाद लोन, पीडीपी नेता वहीद पर्रा हिरासत से रिहा, पर नजरबंदी से राहत नहीं; महबूबा-उमर समेत 15 अभी भी ‘बंद’
ये पढ़ा क्या?
X