ताज़ा खबर
 

‘शुभेंदु अधिकारी के जाने से TMC को हर्जाना भुगतना पड़ेगा’, विश्लेषक की बात पर Republic TV पर पैनलिस्ट ने कहा – वृक्ष से एक पत्ता गिरने से कुछ नहीं होगा

शुभेंदु अधिकारी 2009 से ही कांथी सीट से तीन बार विधायक चुने जा चुके हैं। राज्य में विधानसभा चुनाव से पहले ममता बनर्जी की पार्टी में बगावत तेज होती जा रही है।

शुभेंदु अधिकारी का कद टीएमसी में काफी बड़ा था।

पश्चिम बंगाल की ममता सरकार में मंत्री रहे शुभेंदु अधिकारी ने गुरुवार (17-12-2020) को तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया। इससे पहले बुधवार को टीएमसी में अच्छी खासी पकड़ रखने वाले शुभेंदु अधिकारी ने विधायक पद से इस्तीफा दे दिया था। माना जा रहा है कि शुभेंदु अधिकारी जल्द ही भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में शामिल हो सकते हैं। टीएमसी में मचे उथल-पुथल के विषय पर Republic TV पर चर्चा के दौरान राजनीतिक विश्लेषक ने कहा कि ‘साल 2013 में टीएमसी को लेकर बंगाल में जो उत्सुकता थी वो अब बिल्कुल नहीं है। एक मुकुल रॉय के छोड़ने के बाद 2019 में 18 सीट बीजेपी को मिल गई…तो अब शुभेंदु अधिकारी के आने के बाद क्या हो सकता है आप इसका अंदाजा लगा सकते हैं…क्योंकि टीएमसी कैडर बेस पार्टी नहीं है..वो इन क्षेत्रियों नेताओं के दम पर है…इनके जाने से एक बहुत बड़ा असर पड़ेगा…मुकुल रॉय के जाने से 2019 में 40 परसेंट वोट शेयर बीजेपी को गया वो यह लोग समझ नहीं पाए..इसकी वजह से लोगों में गुस्सा बढ़ रहा है..शुभेंदु अधिकारी के जाने से TMC को हर्जाना भुगतना पड़ेगा’।

शो में मौजूद टीएमसी समर्थक नेता ने बीच में ही राजनीतिक विश्लेषक को टोकते हुए कहा कि ‘सुनिए ममता बनर्जी और तृणमूल अब कोई छोटा पार्टी नहीं हैं…वो वट वृक्ष हो गये हैं…उसके अंदर से 1-2 पत्ता गिर जाएगा तो इससे वट वृक्ष को कुछ नहीं होगा…आप पहले जानकारी ले लीजिए और ममता बनर्जी के बारे में जान लीजिए…एक लीडर सीएम बनने के लिए भाजपा की ओर जाएगा तो उसका ममता बनर्जी पर कोई असर नहीं पड़ेगा।’ शुभेंदु अधिकारी पूर्वी मिदनापुर जिले के एक प्रभावशाली राजनीतिक परिवार से आते हैं। उनके पिता शिशिर अधिकारी 1982 में कांथी दक्षिण से कांग्रेस के विधायक थे, लेकिन बाद में वे तृणमूल कांग्रेस के संस्थापक सदस्यों में से एक बन गए।

शुभेंदु अधिकारी 2009 से ही कांथी सीट से तीन बार विधायक चुने जा चुके हैं। राज्य में विधानसभा चुनाव से पहले ममता बनर्जी की पार्टी में बगावत तेज होती जा रही है। शुभेंदु अधिकारी के बाद टीएमसी विधायक जितेन्द्र तिवारी ने पार्टी के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है।

बता दें कि कुछ ही समय पहले उन्होंने आसनसोल नगर निगम के बोर्ड आफ चेयरपर्सन पद से इस्तीफा दिया था। जितेन्द्र तिवारी फिलहाल पांडेश्वर विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं। इस्तीफा देते हुए उन्होंने आरोप लगाया है कि कोलकाता में खूब सारा फंड है लेकिन आसनसोल के विकास के लिए फंड नहीं मिलता।

Next Stories
1 मौसम: दिल्ली में पारे के रिकॉर्ड गिरावट से शीतलहर; गुरुवार को रहा ‘ठंडा दिन’
2 कल आज और कल: उज्‍जवल है ऐतिहासिक फिल्मों का भविष्य, 2021 में कई ऐतिहासिक फिल्में रिलीज के लिए तैयार
3 दो साल बाद नहीं रहेगा कोई टोल नाका, ऐसे वसूला जाएगा टैक्स- नितिन गडकरी ने बताया पूरा प्लान
ये पढ़ा क्या?
X