ताज़ा खबर
 

देशभर में एंटी मोदी माहौल के लिए विपक्ष को एकजुट करने में अकेले जुटीं ममता बनर्जी, केजरीवाल ने दिया था सुझाव

तीसरे मोर्चे के लिए ममता खुद अपने दम पर ही तैयारी कर रही हैं। इसके लिए वह उमर अब्‍दुल्‍ला ओर नीतीश कुमार से संपर्क में हैं।

Author Published on: November 20, 2016 8:12 PM
mamata benerjee, anti modi, demonetization, arvind kejriwal, opposition, PM narendra modi, congress, trinamool congress, nitish kumar, AAPपश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों से पहले क्षेत्रीय नेताओं को साथ लेकर अलग मोर्चा बनाने की तैयारी कर रही हैं।

पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों से पहले क्षेत्रीय नेताओं को साथ लेकर अलग मोर्चा बनाने की तैयारी कर रही हैं। इस काम में वह अकेले ही जुटी हुई हैं। हालांकि नोटबंदी के मामले में वह और दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री व आप नेता अरविंद केजरीवाल उनके साथ आए थे। लेकिन तीसरे मोर्चे के लिए ममता खुद अपने दम पर ही तैयारी कर रही हैं। इसके लिए वह उमर अब्‍दुल्‍ला ओर नीतीश कुमार से संपर्क में हैं। वह कांग्रेस को भी इस दायरे में लाना चाहती हैं। ममता अगले लोकसभा चुनाव से पहले देशभर में एंटी मोदी माहौल बनाना चाहती हैं।

सूत्रों के अनुसार ममता को केजरीवाल ने सुझाव दिया था कि दोनों नेताओं को देशभर में जाना चाहिए। हालांकि केजरीवाल कांग्रेस के साथ मंच साझा नहीं करना चाहते थे क्‍योंकि दिल्‍ली और पंजाब दोनों जगहों पर कांग्रेस उनके विपक्ष में हैं। लेकिन ममता का मानना है कि समय की जरुरत है कि सभी विपक्षी पार्टियों को अपने मतभेद किनारे कर साथ आना चाहिए। इसी बीच ममता बनर्जी के करीबी सूत्रों के अनुसार तृणमूल कांग्रेस की मुखिया कांग्रेस हाईकमान के संपर्क में भी थी। ममता केवल नोटबंदी के मुद्दे में रूचि नहीं ले रही हैं वह इसे एक जरिया बना रही हैं। यह मसला तो ताजा है इसलिए इस पर विरोध सामने आ रहा है। सरकार का रवैया तानाशाही भरा है और दिल्‍ली से जितना दूर जाते हैं उतना इसका रूख बदल जाता है। ममता बनर्जी इसी को हथियार बनाना चाहती हैं।

इंडियन एक्‍सप्रेस से बंगाल की मुख्‍यमंत्री ने कहा, ”यह काली सरकार का काला फैसला है। मुझे इस मसले पर इगो नहीं है। मैं इस पर बोल रही हूं क्‍योंकि आम आदमी को परेशानी हो रही है। ना केवल बंगाल में बल्कि पूरे देश में अभियान चलाने की जरुरत है। जो मैं कर सकती हूं वह मैं करूंगी लेकिन उम्‍मीद करती हूं कि पूरा विपक्ष मोदी सरकार के खिलाफ एक होगा। उम्‍मीद करती हूं कि हमारे देश की जनता के लिए पूरा विपक्ष एक होगा।”

बंगाल कांग्रेस हालांकि इस बात से खुश नहीं है। बंगाल कांग्रेस के अध्‍यक्ष अधीर चौधरी कह चुके हैं कि ममता बनर्जी अवसरवादिता के चलते इस मुद्दे को उठा रही हैं। वह अपनी पार्टी में भ्रष्‍टाचार को नजरअंदाज कर रही हैं। इससे पहले ममता बनर्जी ने कहा था कि वह मोदी सरकार के खिलाफ समर्थन लेने के लिए 24 नवंबर से भारत यात्रा पर निकलेंगी। पार्टी सूत्रों के अनुसार ममता श्रीनगर जा सकती हैं वहां से नेशनल कांफ्रेंस के उमर अब्‍दुल्‍ला के साथ मंच साझा करेंगी। गुजरात में वह हार्दिक पटेल के साथ बातचीत कर रही हैं। ममता बनर्जी बिहार में भी रैली कर सकती हैं। गौरतलब है कि दिल्‍ली में रैली के दौरान ममता बनर्जी ने कहा था कि वह किसी से डरती नहीं हैं। बाजार में सब्जियां नहीं है। क्‍या लोग हीरे या एटीएम मशीन खाएंगे?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर ने कहा- मैं किस धर्म से हूं, इससे किसी को क्या मतलब
2 इंदौर-पटना एक्सप्रेस हादसा: माकपा बोली, ‘बुलेट ट्रेन’ की फिक्र करने वाले पीएम घटना की जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार नहीं
3 नोटबंदी: स्याही का फैसला आने के बाद गूगल पर लोगों ने खोजा इसे मिटाने का तरीका
ये पढ़ा क्या?
X