ताज़ा खबर
 

ममता ने मोदी को निशाना बनाया नोटबंदी के खिलाफ दिल्ली की सड़कों पर उतरेंगी

प्रधानमंत्री अन्य दलों को धमका रहे हैं, जो नोटबंदी के खिलाफ अपनी आवाज उठा रहे हैं। प्रधानमंत्री को गंभीर होना चाहिए। प्रधानमंत्री को प्रधानमंत्री की तरह बर्ताव करना चाहिए।

Author कोलकाता | November 22, 2016 12:38 AM
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (फाइल फोटो)

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार (21 नवंबर) को आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नोटबंदी के खिलाफ आवाज उठा रहे अन्य दलों को धमका रहे हैं और लोगों को गंभीर मुसीबत में डालने वाले केंद्र के इस कदम का विरोध करने के लिए मंगलवार (22 नवंबर) वह दिल्ली की सड़कों पर उतरेंगी। बनर्जी ने राज्य सचिवालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘प्रधानमंत्री अन्य दलों को धमका रहे हैं, जो नोटबंदी के खिलाफ अपनी आवाज उठा रहे हैं। प्रधानमंत्री को गंभीर होना चाहिए। प्रधानमंत्री को प्रधानमंत्री की तरह बर्ताव करना चाहिए और जरूरत पड़ने पर इस मुद्दे पर उन्हें सर्वदलीय बैठक बुलानी चाहिए।’ तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ने कहा, ‘यह अहं की लड़ाई नहीं है। नोटबंदी पर कार्रवाई योजना होनी चाहिए। मेरी विनम्र विनती है कि इस मुद्दे का समाधान करने के लिए हमें मिलकर काम करना चाहिए। लोग कष्ट भुगत रहे हैं।’ उन्होंने इस बात का दावा किया कि कुछ राजनैतिक दल अपनी आवाज उठाने में अक्षम हैं क्योंकि ‘प्रधानमंत्री उन्हें धमका रहे हैं।’ उन्होंने कहा, ‘लेकिन मैं इससे नहीं डरूंगी। मैं प्रदर्शन जारी रखूंगी। वह मुझे जेल में डाल सकते हैं। वह :मोदी: यहां तक कि मेरी भी पार्टी को धमका रहे हैं।’ मोदी ने आगरा में एक रैली में रविवार (20 नवंबर) को कहा था कि करोड़ों रुपए के चिटफंड घोटाले में जिन नेताओं का हाथ है, वे उनपर हमला कर रहे हैं क्योंकि नोटबंदी से सबसे अधिक आघात उन्हें लगा है। मोदी ने यह बात ममता का परोक्ष तौर पर उल्लेख करते हुए कही थी।

HOT DEALS
  • I Kall Black 4G K3 with Waterproof Bluetooth Speaker 8GB
    ₹ 4099 MRP ₹ 5999 -32%
    ₹0 Cashback
  • Nokia 1 | Blue | 8GB
    ₹ 5199 MRP ₹ 5818 -11%
    ₹624 Cashback

बनर्जी ने आरोप लगाया कि इस कदम के पीछे घोटाला है। उन्होंने कहा, ‘जरूर कुछ प्रछन्न एजेंडा है। क्या प्रछन्न एजेंडा है। उन्हें इसे सार्वजनिक पटल पर लाने दें।’ बनर्जी ने कहा कि वह कल (मंगलवार, 22 नवंबर) दिल्ली की सड़कों पर उतरेंगी और इस मुद्दे पर दूसरे राज्यों में भी जाएंगी। उन्होंने घोषणा की, ‘मैं 23 और 24 नवंबर को दिल्ली में रहूंगी और 20 नवंबर को लखनभ में रहूंगी। मैं बिहार और पंजाब भी जाऊंगी।’ उन्होंने कहा, ‘यह राजनैतिक मुद्दा नहीं है। हम आम लोगों की तरफ से बात कर रहे हैं। बाजार बंद हैं। छोटे कारोबारी प्रभावित हैं।’ उन्होंने कहा, ‘मेरा कोई राजनैतिक हित नहीं है। मैं ऐसा देश के लोगों के लिए कर रही हूं।’ उन्होंने कहा कि अपनी लड़ाई में वह अकेली नहीं हैं और कम से कम तीन अन्य दल राष्ट्रपति से मिलने के लिए उनके साथ गए थे। उन्होंने कहा, ‘मैं सभी (विपक्षी) राजनैतिक दलों से अनुरोध करूंगी कि वे लोगों के साथ हों।’ मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र रेलवे, उड्डयन, पेट्रोलियम जैसे विभिन्न क्षेत्रों में चलन से बाहर हो चुके नोटों के इस्तेमाल की अनुमति दे रहा है लेकिन राज्य सरकार के क्षेत्रों में ऐसा करने की अनुमति नहीं है।

 

 

शीतकालीन सत्र चौथा दिन: विपक्ष की मांग संसद में आकर बोलें प्रधानमंत्री मोदी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App