मल्लिका साराभाई का मोदी पर हमला- मेरी मां के निधन पर कुछ नहीं बोले, आपको शर्म आनी चाहिए

मल्लिका साराभाई की मां मृणालिनी 97 वर्ष की थीं। उन्‍होंने गुरुवार को अंतिम सांस ली। उन्‍हें पद्मभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।

Mallika Sarabhai, Bharatnatyam, Mrinalini Sarabhai, Prime Minister, Narendra Modi, PM Modi, मल्लिका साराभाई, मृणालिनी साराभाई, नरेंद्र मोदी, पीएम मोदी
मां मृणालिनी साराभाई की अर्थी उठातीं मल्लिका साराभाई व अन्‍य।

प्रख्‍यात नृत्यांगना मृणालिनी साराभाई के निधन पर शोक प्रकट न करने को लेकर मल्लिका साराभाई ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कड़ी आलोचना की है। मृणालिनी साराभाई की बेटी मल्लिका साराभाई ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा, ‘माय डियर प्राइम मिनिस्टर, आप मेरी राजनीति को पसंद नहीं करते हैं और मैं आपकी। लेकिन कल्‍चर के लिए मृणालिनी साराभाई के 60 साल तक दिए गए योगदान से इसका कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने हमारी संस्‍कृति को दुनियाभर में रोशन किया है और उनके निधन पर आपने एक शब्द नहीं कहा, इससे आपकी मानसिकता का पता चलता है। आप मुझसे कितनी ही नफरत क्यों न करते हों, लेकिन हमारे देश के प्रधानमंत्री के तौर पर आपको उनके योगदान का सम्‍मान करना चाहिए। आपने ऐसा नहीं किया, आपको शर्म आनी चाहिए।’

Read Also: मल्लिका साराभाई ने मां मृणालिनी को नृत्‍य कर दी अंतिम विदाई, तस्‍वीरें में देखें उनका जीवन

मल्लिका साराभाई की मां मृणालिनी 97 वर्ष की थीं। उन्‍होंने गुरुवार को अंतिम सांस ली। उन्‍हें पद्मभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। मल्लिका साराभाई भी गुजरात से संबंध रखती हैं और वैचारिक स्‍तर पर कई बार नरेंद्र मोदी का खुलकर विरोध कर चुकी हैं। मल्लिका साराभाई ने एक सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में राज्य में हुए 2002 के सांप्रदायिक दंगों के लिए गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री मोदी पर लगातार हमले किए हैं।

Mallika Sarabhai, Bharatnatyam, Mrinalini Sarabhai, Prime Minister, Narendra Modi, PM Modi, मल्लिका साराभाई, मृणालिनी साराभाई, नरेंद्र मोदी, पीएम मोदी
प्रख्‍यात नृत्यांगना मृणालिनी साराभाई को उनकी बेटी मल्लिका साराभाई ने नृत्‍य कर उन्‍हें अंतिम विदाई दी। मृणालिनी साराभाई का जन्‍म 11 मई 1918 को केरल में हुआ था। उनकी मां अम्‍मू स्‍वामीनाथन थीं, जो दर्पणा एकेडमी ऑफ परफॉर्मिंग आर्ट की संस्‍थापक थी। वह सांसद भी रही थीं। मृणालिनी साराभाई ने 18,000 से भी अधिक छात्रों को भरतनाट्यम और कथकली में प्रशिक्षण दिया था। शास्त्रीय नृत्य की विधाओं महारत रखने वाली मृणालिनी को नृत्य के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए पद्मभूषण और पदम् श्री के अलावा अनेक पुरस्कारों से सम्मानित किया गया।

पढें अपडेट समाचार (Newsupdate News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।