ताज़ा खबर
 

मालदीव के सामाजिक-आर्थिक विकास में सहयोग करेगा भारत

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा, ‘भारत, मालदीव के साथ अपने संबंधों को सर्वोच्च प्राथमिकता देता है, जो भरोसा, पारदर्शिता, आपसी समझ और संवेदनशीलता पर आधारित है।’ उन्होंने कहा कि ‘पड़ोसी प्रथम’ नीति को आगे बढ़ाते हुए भारत मालदीव सरकार को उसकी सामाजिक-आर्थिक विकास पहल में पूरा समर्थन देगा।

Author November 27, 2018 7:28 AM
मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सालेह फाइल फोटो। (सोर्स- एपी)

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ सोमवार को मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद ने मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद सुषमा स्वराज ने कहा कि भारत सरकार की ‘पड़ोसी प्रथम’ नीति को आगे बढ़ाते हुए भारत मालदीव सरकार को उसकी सामाजिक-आर्थिक विकास पहल में पूरा समर्थन देगा। विदेश मंत्रालय के एक बयान के अनुसार, दोनों देशों के विदेश मंत्रियों ने इस बात पर सहमति जताई की कि मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सालेह 17 दिसंबर 2018 को राजकीय यात्रा पर भारत आएंगे। इस संदर्भ में दोनों मंत्रियों ने व्यापक विचार विमर्श किया। दोनों पक्षों ने आपसी गठजोड़ को और मजबूत बनाने के उपायों के बारे में चर्चा की। भारत ने मालदीव को उसकी विकास प्राथमिकताओं को लागू करने और राजकोषीय एवं बजटीय स्थिरता सुनिश्चित करने में भारत के पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा, ‘भारत, मालदीव के साथ अपने संबंधों को सर्वोच्च प्राथमिकता देता है, जो भरोसा, पारदर्शिता, आपसी समझ और संवेदनशीलता पर आधारित है।’ उन्होंने कहा कि ‘पड़ोसी प्रथम’ नीति को आगे बढ़ाते हुए भारत मालदीव सरकार को उसकी सामाजिक-आर्थिक विकास पहल में पूरा समर्थन देगा। मालदीव के विदेश मंत्री शाहिद अब्दुल्ला ने कहा कि उनकी सरकार भारत के साथ सभी मुद्दों पर करीबी सहयोग से काम करने को आशान्वित है।

उन्होंने मालदीव और भारत के विशेष, करीबी और दोस्ताना संबंधों की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि मालदीव की सरकार भारत की सुरक्षा और सामरिक चिंताओं के प्रति संवेदनशील रहेगी। मालदीव में नई सरकार में विदेश मंत्री बनने के बाद यह शाहिद की पहली आधिकारिक यात्रा है। यह यात्रा अहम है क्योंकि मालदीव की पिछली सरकार के समय दोनों देशों के रिश्तों में तनाव कायम हो गया था।

दोनों मंत्रियों ने इस बात को रेखांकित किया कि दोनों देशों के ऐतिहासिक व सांस्कृतिक संबंधों को देखते हुए लोगों के बीच संपर्क महत्वपूर्ण है। इस संदर्भ में उन्होंने जल्द द्विपक्षीय राजनयिक वार्ता आयोजित करने पर सहमति व्यक्त की। मंत्रियों ने सुरक्षा व रक्षा मामलों से जुड़े विषयों और नए क्षेत्रों में सहयोग पर चर्चा की। इस संदर्भ में दिसंबर में रक्षा सहयोग वार्ता की अगली बैठक आयोजित करने पर सहमति व्यक्त की। द्विपक्षीय व वाणिज्यिक संबंधों को विस्तार देने की पहल के तहत दोनों देशों ने निजी क्षेत्र के महत्व को रेखांकित किया। मालदीव के विदेश मंत्री ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को द्विपक्षीय यात्रा पर आमंत्रित किया।

इससे पहले, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया, ‘मालदीव की विकास संबंधी प्राथमिकताएं पूरी करने के लिए साथ मिलकर काम कर रहे हैं। द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने और क्षेत्र में शांति एवं सुरक्षा सुनिश्चित करने को लेकर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद की मुलाकात काफी गर्मजोशी भरी और सकारात्मक रही।’ सुषमा ने शाहिद का गर्मजोशी से स्वागत किया और विदेश मंत्री नियुक्त होने पर उन्हें बधाई दी। शाहिद का रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण से भी मिलने का कार्यक्रत है । वे मंगलवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App