ताज़ा खबर
 

मालदा हिंसा: पुलिस को रैली करने वाले 51 मुसलमानों की तलाश,10 दिन से नहीं खुला इदारा ए शरिया का दफ्तर

कालियाचक थाने के एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि कालियाचक में करामत अली मार्केट की पहली मंजिल पर स्थित इदारा ए शरिया का दफ्तर तीन जनवरी के बाद से ही बंद है।

Author कोलकाता | January 13, 2016 7:08 PM
यह तस्‍वीर 3 जनवरी 2016 की है। जब उग्र भीड़ ने पश्चिम बंगाल के कालियाचक में दर्जनों वाहन समेत पुलिस स्‍टेशन को आग लगा दी थी।

पश्चिम बंगाल के मालदा जिले के कालियाचक में मुस्लिम रैली के दौरान हुई हिंसा के बाद पुलिस अब इदारा ए शरिया संगठन की ओर से जारी खत पर दस्‍तखत करने वाले 51 लोगों की तलाश कर रही है। इस खत के जरिए रैली आयोजित करने की अनुमति मांगी गई थी। तीन जनवरी को हुई यह रैली हिंसक हो गई थी जिसमें प्रदर्शनकारियों ने लगभग दो दर्जन वाहनों को जला दिया था, साथ ही कालियाचक पुलिस थाने पर भी हमला बोलते हुए आग लगा दी थी। यह रैली अखिल भारत हिंदू महासभा के नेता कमलेश तिवारी के पैगंबर मोहम्‍मद के खिलाफ दिए गए बयान के विरोध में आयोजित की गई थी।

Read Alsoगुलाम अली ने ममता बनर्जी को बताया सरस्‍वती, त्रिपुरा गवर्नर बोले- पाकिस्‍तानियों के अत्‍याचार भूले बंगाली

कालियाचक थाने के एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि कालियाचक में करामत अली मार्केट की पहली मंजिल पर स्थित इदारा ए शरिया का दफ्तर तीन जनवरी के बाद से ही बंद है। इन लोगों के फोन भी बंद हैं। हम ज्‍यादा सक्रिय नहीं होना चाहते क्‍योंकि इससे साम्‍प्रदायिक मामला उठ सकता है। पुलिस इस मामले में सीपीएम नेता अब्‍दुल रऊफ और तृणमूल कांग्रेस नेता अशदुल बिश्‍वास से पूछताछ कर सकती है। हालांकि किसी नेता के खिलाफ शिकायत नहीं आई है। मालदा एसपी प्रसून बंदोपाध्‍याय ने कहा कि हमें कुछ नाम मिले हैं और नामों का सत्‍यापन कर रहे हैं।

Read Also: मालदा हिंसा विवाद के बीच गुलाम अली के कंसर्ट में गजलें सुनने पहुंची ममता बनर्जी, देखिए तस्‍वीरें

इदारा ए शरिया के सदस्‍यों के बारे में पूछे जाने पर एसपी ने बताया कि, अभी जांच शुरु हुई है, देखना होगा कि वे इसमें शामिल थे या नहीं इसके बाद उनसे पूछताछ होगी। उन्‍होंने एफआईआर में अब्‍दुल रऊफ का नाम होने की पुष्टि की है और बताया कि वह फरार है। वहीं इदारा ए शरिया से जुड़े एक युवक मुजमिल अहमद ने इंडियन एक्‍सप्रेस को बताया कि हमारा संगठन धार्मिक है और हमने रैली से पहले पुलिस को सूचना दी थी। उन्‍होंने पर्याप्‍त सुरक्षा नहीं दी जिसके चलते असामाजिक तत्‍व भीड़ में घुस गए और उन्‍होंने थाने पर हमला बोल दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App