ताज़ा खबर
 

Makar Sankranti Mela 2020: गंगा सागर में स्नान के लिए पहुंचे लाखों की तादाद में तीर्थयात्री, घाटों पर बढ़ाई गई सुरक्षा

Makar Sankranti Mela 2020: स्थानीय प्रशासन के अनुसार लोग पौष संक्रांति (14 और 15 जनवरी) को गंगा नदी और बंगाल की खाड़ी के संगम में पवित्र स्नान के लिए गंगा सागर की यात्रा पर आते हैं।

बंगाल के गंगासागर में पवित्र डुबकी लगाने के लिए लोग पहले से ही पहुंचने लगे हैं। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

मकर संक्रांति का मेला 2020: बंगाल में मकर संक्रांति पर लगने वाले वार्षिक गंगा सागर मेले में मंगलवार को दुनिया के विभिन्न हिस्सों से लाखों लोग पहुंचे और गंगा स्नान किया। इस दौरान राज्य सरकार की ओर से काफी व्यवस्था की गई थी। स्थानीय प्रशासन के अनुसार लोग पौष संक्रांति (14 और 15 जनवरी) को गंगा नदी और बंगाल की खाड़ी के संगम में पवित्र स्नान के लिए गंगा सागर की यात्रा पर आते हैं।

मेला क्षेत्र में लगभग 1,000 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए: तटरक्षक बल, सेना, एनडीआरएफ और समुद्री पुलिस सहित सुरक्षा बलों के जवानों को सागर द्वीपों में तैनात किया गया है। पुलिस ने कहा कि घाटों, बफर जोन और मेला क्षेत्र में लगभग 1,000 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। इसके अलावा 12 ड्रोन का इस्तेमाल किया जाएगा। सुंदरबन और कुकुबेरिया पुलिस की टीमें लॉट 8 से नदी में लगातार गश्त कर रही हैं।

सुरक्षा की कड़ी व्यवस्था : क्विक रिस्पांस टीमें लॉट 8, नामखाना, चेमागुरी और काचुबेरिया जैसे पारगमन बिंदुओं पर तैनात हैं। किसी भी आपात स्थिति में सैकड़ों नावों को स्टैंडबाय रखा गया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार, तीर्थयात्रियों की सहायता के लिए सागर द्वीप में हजारों नागरिक स्वयंसेवक भी तैनात किए गए हैं। प्रशासन ने स्थिति पर चौबीसों घंटे नजर रखने के लिए वास्तविक समय की निगरानी प्रणाली विकसित की है। इस प्रणाली का उपयोग करके सभी वरिष्ठ प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी सभी संक्रमणों का लाइव फुटेज देख सकेंगे।

24 ×7 शिफ्ट-वार रखी जा रही है नजर : कोलकाता से गंगा सागर तक मौसम की स्थिति, ज्वार के विकास और तीर्थयात्रियों की आवाजाही पर नज़र रखने के लिए एक एकीकृत नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है। लगभग 60 कर्मचारी 24 ×7 शिफ्ट-वार काम करेंगे। एक अधिकारी ने कहा “तीर्थयात्रियों की भीड़ 14 जनवरी से शुरू होकर 16 जनवरी तक जारी रहेगी। इन दिनों हम 24 घंटे सतर्क रहेंगे। इस साल नशे में धुत चालकों की जांच करने के लिए सांस विश्लेषक (breath analysers) भी मेला में इस्तेमाल किया जाएगा।

एक एयर एंबुलेंस और 2,200 बसें चलाई गईं: राज्य परिवहन विभाग गंगा सागर तीर्थयात्रियों के लिए पहले से ही एक एयर एंबुलेंस और 2,200 बसें चला रहा है, जो पिछले साल की तुलना में 300 अधिक है। 15 और 16 जनवरी के लिए 100 अतिरिक्त बसों को रिजर्व रखा गया है। इसके अलावा हजारों शौचालय स्थापित किए गए हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हाल ही में जिले के काकद्वीप का दौरा किया था, जहां उन्होंने गंगा सागर मेला की तैयारियों की समीक्षा की और अधिकारियों से तीर्थयात्रियों के लिए परेशानियों को दूर करने का निर्देश दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 Kaifi Azmi Google Doodle: उर्दू के अजीम शायर कैफी आजमी की आज 101वीं जयंती, Google Doodle बनाकर कर रहा याद
2 CAA, NRC विवादः ‘असम में 5 लाख से अधिक 1 भी शख्स को दी गई नागरिकता तो छोड़ दूंगा राजनीति’, बीजेपी मंत्री का ऐलान
3 गैंगरेप पर कविता में 2 शब्दों को यहां BJP सरकार ने बताया- ‘अश्लील’, अकादमी पुरस्कार विजेता की किताब की बिक्री, प्रसार पर रोक