ताज़ा खबर
 

बुलंदशहर ह‍िंसा: पुल‍िस पकड़ नहीं सकी है, पर आ गया योगेश राज का वीड‍ियो

घटना में गोली लगने से पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह और स्थानीय नागरिक सुमित कुमार की मौत हो गई थी। पुलिस ने अपनी एफआईआर में आरोप लगाया है कि बजरंग दल के जिला संयोजक योगेश राज ने ही भीड़ को हिंसा के लिए उकसाया था।

बुलंदशहर हिंसा कांड का मुख्‍य आरोपी योगेश राज।

बुलंदशहर हिंसा कांड का मुख्य आरोपी योगेश राज अभी पुलिस की पकड़ से बाहर है। लेकिन उसने अपना एक वीडियो जारी किया है। उसने खुद की बेगुनाह होने के बात कहते हुए घटनास्थल पर ही मौजूद न होने की बात कही है। योगेश राज ने भगवान पर भरोसा जताते हुए ये कहा है कि उसे उम्मीद है कि भगवान ही उसे सही राह दिखाएंगे। वीडियो में योगेश राज ने कहा,”जय श्री राम, मैं योगेश राज, जिला संयोजक, बजरंग दल, बुलंदशहर। जैसा कि आप स्याना मेंं हुई गौकशी के प्रकरण को देख रहे होंगे। पुलिस मुझे इस प्रकार प्रस्तुत कर रही है जैसे कि मेरा कोई बहुत बड़ा आपराधिक इतिहास हो।”

इस तस्वीर पर क्लिक कर देखें कैसे थे बुलंदशहर हिंसा के दौरान हालात।

योगेश राज ने आगे कहा,” मैं आप सभी को बताना चाहता हूं कि उस दिन दो घटनाएं घटित हुईं थीं। पहली घटना स्याना के नजदीक महाव गांव में गौकशी की हुई थी, जिसकी सूचना पाकर मैं अपने साथियों सहित वहां पर पहुंचा था। प्रशासनिक लोग भी वहां पर पहुंचे थे और मामले को शांत करके हम सभी लोग अपने साथियों सहित स्याना थाने में मामला लिखाने के लिए आ गए थे।

योगेश राज के मुताबिक, ”जब हम थाने में थे, तभी हमें जानकारी मिली कि उक्त स्थल पर ग्रामीणों ने पथराव कर दिया है। वहां पर फायरिंग भी हुई है, जिसमें एक युवक को गोली लगी है। एक पुलिस वाले को भी गोली लगी है। जब हमारी मांग को पूर्ण करते हुए स्याना थाने में मुकदमा लिखा जा रहा था तो बजरंग दल कोई आंदोलन या प्रदर्शन क्यों करता? मैं दूसरी घटना में उक्त स्थल पर मौजूद नहीं था। मेरा उस घटना से कोई लेना-देना नहीं है। ईश्वर मुझे न्याय दिलवाएंगे, ऐसा मुझे भगवान पर पूर्ण भरोसा है।”

इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की पत्नी गहरे सदमे में हैं. (एक्सप्रेस फोटो: गजेंद्र यादव)

बता दें कि दिनांक 3 दिसंबर, 2018 को बुलंदशहर जिले के स्याना थाना क्षेत्र के महाव में गौकशी की घटना हुई थी। इस घटना के बाद भड़के ग्रामीणों ने पुलिस पर जमकर पथराव किया था और चिंगरावठी चौकी को आग के हवाले कर दिया था।

इस घटना में गोली लगने से पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह और स्थानीय नागरिक सुमित कुमार की मौत हो गई थी। पुलिस ने अपनी एफआईआर में आरोप लगाया है कि बजरंग दल के जिला संयोजक योगेश राज ने ही भीड़ को हिंसा के लिए उकसाया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App