ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले शिवसेना के संजय राउत की बड़ी मांग- आदित्य ठाकरे बनें CM, युवा को मिले कमान

बता दें कि आदित्य, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बेटे हैं।

Maharashtra Assembly Elections, Maharashtra Elections, Aditya Thackeray, CM, Demand, Shivsena, Sanjay Raut, Uddhav Thackeray, BJP, Devendra Fadanvis, Narendra Modi, PM, State News, India News, National News, Hindi News, महाराष्ट्र, आदित्य ठाकरे, शिवसेना, संजय राऊत, उद्धव ठाकरे, देवेंद्र फडणवीस, बीजेपी, महाराष्ट्र समाचार, जनसत्ता समाचारशिवसेना नेता संजय राउत बोले हैं कि अब महाराष्ट्र की कमान किसी युवा के हाथ में दी जानी चाहिए। (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सहयोगी दल शिवसेना ने बड़ी मांग रख दी है। गुरुवार (13 जून, 2019) को पार्टी नेता संजय राउत ने कहा कि आदित्य ठाकरे को सूबे का नया मुख्यमंत्री बनाया जाना चाहिए। अब युवा शख्स को राज्य के नेतृत्व की कमान मिलनी चाहिए।

बता दें कि आदित्य, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बेटे हैं। वह राजनीति में पिछले पांच सालों से सक्रिय हैं। कुछ सालों पहले उन्हें शिवसेना के नेता के तौर पर पार्टी में नियुक्त किया गया था, जबकि वह भगवा पार्टी की छात्र इकाई युवा सेना के अध्यक्ष का जिम्मा भई संभालते हैं।

सितंबर-अक्टूबर के बीच महाराष्ट्र में विस चुनाव हैं। ऐसे में काफी दिन पहले से कहा जा रहा था कि वह चुनाव लड़ सकते हैं। पार्टी अंदरखाने के सूत्रों की मानें तो आदित्य के लिए विधानसभा क्षेत्र भी तय किया जा चुका है। बताया जा रहा है कि महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के लिए लोकसभा चुनाव की तर्ज पर ही दोनों दलों में बराबर-बराबर सीटों पर चुनाव लड़ने को लेकर सहमति बन चुकी है।

महाराष्ट्र में विधानसभा की 288 सीटें हैं। ऐसे में दोनों दल 144-144 सीटों पर मिलकर कांग्रेस-एनसीपी के गठबंधन को टक्कर देंगे। हालांकि, दोनों दलों के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर अभी कोई सहमति नहीं बन पाई है। इससे पहले साल 2014 में लोकसभा चुनाव साथ लड़ने के बाद सीटों पर सहमति नहीं बन पाने को लेकर दोनों दलों ने अलग-अलग चुनाव लड़ा था।

उस चुनाव में भाजपा को 122 और शिवसेना को 63 सीटों पर जीत मिली थी। इसके बाद दोनों दलों ने मिलकर राज्य में सरकार बनाई थी। साल 2014 से पहले महाराष्ट्र में शिवसेना बड़े भाई की हैसियत से चुनाव लड़ती थी। शिवसेना राज्य में 171 और भाजपा 117 सीटों पर चुनाव लड़ती थी।

साल 2014 में भाजपा बराबर सीटों की मांग पर चुनाव लड़ने और ज्यादा सीटें जीतने वाले दल का मुख्यमंत्री बनाने की मांग लेकर अड़ गई। भाजपा की इस मांग की वजह से ही राज्य में शिवसेना के साथ 25 साल पुराना गठबंधन टूट गया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कांग्रेस सांसद ने कहा- नलगोंडा में हूं, दिल्‍ली में राम माधव से कैसे मिल लूंगा? मीडिया वालों पर केस करूंगा
2 Cyclone Vayu के दौरान जरूरी पड़े मदद, तो इन इमरजेंसी हेल्पलाइन नंबर्स पर करें कॉल
3 Indian Railways ने चक्रवाती तूफान को लेकर ये ट्रेनें कीं कैंसल, देखें लिस्ट