ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र: एक हफ्ते के अंदर दूसरी बार गठबंधन दलों में खटपट, सावरकर पर कांग्रेस और शिवसेना के बीच बढ़ सकती है तकरार

शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने साफतौर पर कहा कि सावरकर को लेकर उनकी पार्टी कोई समझौता नहीं करेगी।

Author नई दिल्ली | Updated: December 15, 2019 8:16 AM
शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे, शरद पवार और सोनिया गांधी। फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस

महाराष्ट्र में बेमेल विचारधारा वाले दलों के गठबंधन में एक हफ्ते के अंदर दूसरी बार खटपट हुई है। पिछले दिनों नागरिकता संशोधन बिल पर कांग्रेस और शिवसेना के बीच मतभेद उभर कर सामने आए थे, जब शिवसेना ने लोकसभा में इस बिल का समर्थन किया लेकिन कांग्रेस की तल्खी के बाद उद्धव ठाकरे ने इस मुद्दे को संभाल लिया और राज्यसभा में पार्टी ने बिल का विरोध करते हुए सदन में वोटिंग प्रक्रिया से वॉकआउट कर दिया। लेकिन दो दिन बाद जब कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने दिल्ली के रामलीला मैदान से सावरकर पर हमला बोला तो शिवसेना तिलमिला उठी।

शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने साफतौर पर कहा कि सावरकर को लेकर उनकी पार्टी कोई समझौता नहीं करेगी। उन्होंने तो यहां तक कह दिया कि महाराष्ट्र और देश के लिए सावरकर देवता हैं। उन्होंने राहुल गांधी को सावरकर का अपमान नहीं करने की नसीहत दी है। राहुल गांधी ने शनिवार (14 दिसंबर) को एक रैली में कहा था कि उनका नाम राहुल सावरकर नहीं राहुल गांधी है। वो मार जाएंगे लेकिन माफी नहीं मांगेगे। इसके बाद शिवसेना ने राहुल के बयान पर आपत्ति जताई।

बता दें कि कांग्रेस सावरकर का विरोध करती रही है और उसे देशभक्त नहीं मानती है। कांग्रेस का मानना है कि अंग्रेजों से माफी मांगने की वजह से ही सावरकर को जेल से आजादी दी गई थी और इसके एवज में सावरकर ने अंग्रेजों को मदद की थी। उधर, शिवसेना सावरकर को महान देशभक्त और महापुरुष मानती रही है। इस मुद्दे पर दोनों दल पहले भी कई बार आमने-सामने आ चुके हैं लेकिन अब जब महाराष्ट्र में दोनों की गठबंधन सरकार है तब दोनों पार्टियों का भिड़ना उद्धव सरकार के लिए खतरे की घंटी हो सकती है।

दरअसल, रेप इन इंडिया वाले बयान पर राहुल गांधी ने साफ कहा कि वो माफी नहीं मांगेगे। इसी कड़ी में उन्होंने रैली में कह दिया कि वो सावरकर नहीं हैं जो माफी मांग लें। राहुल के इस बयान पर न सिर्फ राजनीति गर्मा गई बल्कि शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने ट्वीट किया, ‘वीर सावरकर सिर्फ महाराष्ट्र के ही नहीं, देश के देवता हैं, सावरकर नाम में राष्ट्र अभिमान और स्वाभिमान है। नेहरू-गांधी की तरह सावरकर ने भी देश की आजादी के लिए जीवन समर्पित किया। इस देवता का सम्मान करना चाहिए। उसमें कोई भी समझौता नहीं होगा। जय हिंद।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 JNU के VC पर हमला? सुरक्षाकर्मियों ने किसी तरह बचाई जान, ड्राइवर ने भगाई कार तो बोनट पर चढ़ गए छात्र; देखें VIDEO
2 J&K:राजौरी में पाकिस्तान तरफ से फायरिंग में दो जवान शहीद, भारतीय सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब
3 उत्तर भारत में शीत लहर का प्रकोप जारी, उत्तराखंड में बर्फबारी से जुड़ी घटनाओं में 3 की मौत
ये पढ़ा क्या?
X