ताज़ा खबर
 

तीन मुस्लिम परिवारों के घर में जबरदस्ती घुसे 40-50 मनसे कार्यकर्ता, मांगने लगे कागज, संदिग्ध बांग्लादेशी होने के संदेह में पुलिस ने भी हिरासत में रखा

मनसे के एक कार्यकर्ता ने कहा कि राज ठाकरे साहब ने हमें अवैध रूप से महाराष्ट्र में रह रहे पाकिस्तानी और बांग्लादेशी मुस्लिमों को हटाने के लिए आदेश दिया था।

Author Edited By रवि रंजन पुणे | Published on: February 24, 2020 8:07 AM
पुलिस ने बताया कि हिरासत में लिए गए वयक्तियों को बाद में छोड़ दिया गया। (फाइल फोटो)

महाराष्ट्र के पुणे में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के 40 से 50 कार्यकर्ता तीन मुस्लिम परिवारों के घर में जबरन घुसे और उनसे कागज की मांग की। पुलिस ने भी ‘गैर कानूनी रूप से भारत में रह रहे बांग्लादेशी’ होने के संदेह में उन परिवारों के तीन मुसलमानों को हिरासत में ले लिया। हालांकि जांच के बाद पुलिस ने पाया कि वे पश्चिम बंगाल के रहने वाले हैं। इसके बाद उन्हें रिहा कर दिया गया। इन तीन में से एक व्यक्ति ने मनसे कार्यकर्ताओं के खिलाफ उत्पीड़न, अतिचार और निजमा पर हमले का आरोप लगाया है। हालांकि अभी तक कोई एफआईआर दर्ज नहीं की गई है।

शनिवार को पार्टी नेता राहुल गवली के नेतृत्व में लगभग 40-50 मनसे कार्यकर्ताओं का एक समूह धनकवड़ी के बालाजीनगर इलाके में गुलमोहर अपार्टमेंट में पुलिस कर्मियों के साथ एक मकान में घुस गया। कार्यकर्ताओं ने तीन “संदिग्ध बांग्लादेशियों” के घरों में घुसकर उनसे खुद के भारतीय साबित करने वाले दस्तावेज मांगे।

मीडिया के सामने दिलशाद मंसूरी, रोशन शेख और बप्पी सरदार के रूप में पहचाने जाने वाले तीनों लोगों से वहां रह रहे अन्य निवासियों के सामने पूछताछ की गई। हालांकि उन लोगों ने खुद को भारतीय साबित करने लिए दस्तावेज दिखाए और कहा कि वे पश्चिम बंगाल के रहने वाले हैं, इसके बावजूद उन्हें सहकार नगर पुलिस स्टेशन ले जाया गया। तीनों व्यक्तियों को शाम तक थाने में बैठाकर रखा गया।

दिलशाद कच्ची दाबेली का स्टॉल चलाते हैं। बप्पी इलेक्ट्रीशियन हैं और रोशन शेख सोने और चांदी के गहनों की पॉलिश करने का काम करते हैं। दो बच्चों के पिता रोशन शेख ने कहा कि वे हुगली जिले के रहने वाले हैं और 1998 में ही पुणे आ गए थे। उसके बाद से इसी जगह पर रह रहे हैं।

शेख ने सहकार नगर पुलिस थाने में रविवार को एक शिकायत दर्ज करवायी। शिकायत में कहा, थाने में पुलिस ने हुगली में मेरी मां की जानकारी और उन्हें बुलाया। हालांकि उन्होंने पुष्टि की कि मैं हुगली का रहने वाली हूं, पुलिस अधिकारी ने उन्हें नजदीकी थाने में जाने और स्थानीय पुलिस से फिर से पुष्टि करने का अनुरोध किया कि मैं उनका बेटा हूं और भारत में पैदा हुआ हूं। मेरी मां को पंडुआ थाने में जाना पड़ा और पुलिसकर्मी से पुणे में पुलिस से बात करने का अनुरोध किया। सभी काम करने के बाद भी उन्होंने मुझे शाम 6 बजे तक पुलिस स्टेशन में इंतजार करवाया, जबकि मेरी पत्नी और बच्चे काफी बेसब्री से मेरा इंतजार कर रहे थे।”

मनसे कार्यकर्ताओं ने कहा कि उन्होंने पार्टी हाईकमान के आदेशों के बाद छापेमारी करने का फैसला किया है। मनसे के सचिन काटकर ने कहा, “राज ठाकरे साहब ने हमें अवैध रूप से महाराष्ट्र में रह रहे पाकिस्तानी और बांग्लादेशी मुस्लिमों को हटाने के लिए आदेश दिया था। इस निर्देश का पालन करते हुए हम सुबह-सुबह घनी भीड़ वाले बालाजीनगर इलाके में पुलिस की मौजूदगी में इकट्ठा हुए, जहां कई अवैध प्रवासी रहते हैं। छापेमारी करने के बाद, हमने अवैध बांग्लादेशियों को पुलिस को सौंप दिया। हालांकि उन्होंने कुछ आईडी दस्तावेज दिखाए, वे स्पष्ट रूप से नकली थे।”

पुलिस के अनुसार, भारतीय पाए जाने पर पकड़े गए लोगों को छोड़ दिया गया। एसीपी सरजेरो बाबर ने कहा, “तीनों पुरुष भारतीय हैं और इसलिए उन्हें छोड़ दिया गया। यह सही है कि तीनों में से एक ने शिकायत की है जिसमें आरोप लगाया गया है कि मनसे कार्यकर्ताओं ने उन्हें परेशान किया। हम पूछताछ करेंगे और उचित कार्रवाई करेंगे।”

Next Stories
1 एम्स के डॉक्टर को अरविंद केजरीवाल को बधाई देना पड़ा भारी, अस्पताल प्रशासन ने मेमो भेज 48 घंटे में मांगा जवाब
2 गुजरात के खंभात तालुका में भड़की सांप्रदायिक हिंसा में 25 घरों, दुकानों को लगाई आग, 13 लोग घायल
3 Donald Trump India Visit: दीदार-ए-ताज के बाद दिल्ली पहुंचे US राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, रामनाथ कोविंद-PM नरेंद्र मोदी से मंगलवार को होगी भेंट
ये पढ़ा क्या?
X