ताज़ा खबर
 

‘मैं राहुल सावरकर नहीं’ पर मुंबई यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर ने किया था पलटवार- आप सच्चे गांधी भी नहीं; विवि ने भेजा छुट्टी पर

22 दिसंबर 2019 को राहुल ने एक जनसभा के दौरान मोदी सरकार, आरएसएस पर जुबानी हमला बोलते हुए कहा था कि वह राहुल सावरकर नहीं है, राहुल गांधी है।

Author नई दिल्ली | Updated: January 15, 2020 12:01 PM
सोमण के इसी बयान पर NSUI ने उनके खिलाफ प्रदर्शन शुरू कर दिया और प्रोफेसर की बर्खास्तगी की मांग उठाई, जबकि इसी बीच विवि ने उन्हें जबरन छुट्टी पर भेज दिया। (फाइल फोटो)

मुंबई विश्वविद्यालय (Mumbai University) के फैकल्टी सदस्य प्रोफेसर योगेश सोमण को पूर्व Congress चीफ राहुल गांधी की कड़ी निंदा के बाद MU ने जबरन छुट्टी पर भेज दिया है। दरअसल, प्रोफेसर ने राहुल के एक पुराने बयान पर निशाना साधते हुए कहा है कि वह राहुल सावरकर तो दूर, सच्चे गांधी भी नहीं हो सकते हैं। उनकी हैसियत नहीं है गांधी होने की। सोशल मीडिया पर जारी किए वीडियो में प्रोफेसर ने कहा था- राहुल में न त्याग है न तेज, इसलिए सावरकर नाम लेने की उनकी औकात नहीं है।

विवि के Academy of Theatre Arts के निदेशक सोमण के खिलाफ यह ऐक्शन ऐसे वक्त पर लिया गया, जब INC की छात्र इकाई National Students Union of India (NSUI), All India Students Federation (AISF) और छात्र भारती (Chhatra Bharati) ने उनके खिलाफ प्रदर्शन शुरू किया था। इन सभी संगठनों के कार्यकर्ताओं ने प्रो. की बर्खास्तगी की मांग उठाई।

सोमवार को इन तीनों संगठनों के समर्थन के बाद विवि में थियेटर अकादमी के छात्रों ने कलीना कैंपस में प्रो. के खिलाफ प्रदर्शन किया। यह विरोध प्रदर्शन देर रात तक चला, जिसके बाद रजिस्ट्रार अजय देशमुख ने प्रदर्शनकारियों को यकीन दिलाया कि सोमण को छुट्टी पर भेजा जाएगा। प्रदर्शनरत छात्रों को एक पत्र में देशमुख की ओर से यह भी कहा गया- सोमण के रवैये की जांच के लिए एक फैक्ट-फाइडिंग कमेटी भी बनाई जाएगी, जिसे चार हफ्तों के भीतर रिपोर्ट जमा करनी होगी।

बता दें कि सोमण ने 14 दिसंबर को फेसबुक और टि्वटर पर राहुल से जुड़ा एक वीडियो पोस्ट किया था, जिसमें वह कहते दिख रहे थे, “मैं राहुल गांधी हूं, न कि राहुल सावरकर।” यह 22 दिसंबर 2019 की एक रैली का था, जिसमें उन्होंने पीएम मोदी के महात्वाकांक्षी अभियान Make in India को लेकर भी बयान दिया था। सोमण ने उसी पर कहा कि राहुल सच में सावरकर नहीं हैं। सच यह है कि वह सच्चे गांधी भी नहीं हैं। उनके पास किसी प्रकार के मूल्य नहीं हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Mayawati Birthday: जन्मदिन पर बोलीं मायावती- UP में जंगलराज, BJP व कांग्रेस एक ही थाली के चट्टे-बट्टे
2 JNU अटैकः इधर पहचान के बाद पुलिस ने जारी किया नकाबपोश लड़की का नाम, उधर ABVP ने माना- हां, है हमारी सदस्य
3 Makar Sankranti 2020: हिमाचल में 1,995 Kg ‘खिचड़ी’ पकाकर बना गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड, 25 शेफ, क्रेन से मंगवाए बर्तन; फिर यूं बनी डिश
ये पढ़ा क्‍या!
X