ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्रः अस्पताल में लेवल-3 की आग! 10 की मौत, सीएम उद्धव ठाकरे ने घटना के लिए मांगी माफी

मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने इस बात पर हैरत जताई कि मॉल में अस्पताल चल रहा था। पेडनेकर का कहना है कि इस तरह का वाकया उन्होंने पहली बार देखा है। अस्पताल माल में कैसे बनाया गया, इसकी जांच कराकर एक्शन लिया जाएगा।

मुंबई के भांडुप में एक अस्पताल में आग लगने से 10 लोगों की मौत हो गई (फोटोः एजेंसी)

मुंबई के भांडुप में स्थित सनराइज अस्पताल में आग लगने से 10 लोगों की मौत हो गई। टीवी रिपोर्ट के मुताबिक अस्पताल में कुल 78 मरीज दाखिल थे। हड़कंप के बीच कोरोना संक्रमित समेत 68 मरीज अन्य जगह शिफ्ट कर दिए गए हैं। आग लगने के बाद इलाके में अफरा तफरी मच गई। दमकल के सहयोग से पुलिस बचाव कार्य में जुटी है। अभी आग लगने की वजह का पता नहीं लगाया जा सका है। महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने घटना के लिए माफी मांगी है।

उद्धव ठाकरे ने घटना के प्रति अपनी संवेदना जताई है। उन्होंने कहा कि पीड़ितों को सरकार मुआवजा देगी। जो लोग भी इस घटना के लिए जिम्मेदार हैं, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। सीएम ने पीड़ित परिवारों को सांत्वना देते हुए कहा कि इस तरह की घटना हुई इसके लिए उन्हें खेद है। पीड़ित परिवारों के दुख में सरकार उनके साथ हमेशा खड़ी है।

डीसीपी प्रशांत कदम का कहना है कि अस्पताल में लगी आग लेवल- 3 या लेवल- 4 की है। आग रात में तकरीबन 12.30 बजे लगी। लपटों ने तेजी से विकराल रूप अख्तियार कर लिया। उनका कहना है कि कोविड केयर अस्पताल में दाखिल 68 मरीजों को अन्य जगह पर शिफ्ट कर दिया गया है।

मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर का कहना है कि आग लगने के कारणों का अभी तक पता नहीं लग सका है। उन्होंने इस बात पर हैरत जताई कि मॉल में अस्पताल चल रहा था। पेडनेकर का कहना है कि इस तरह का वाकया उन्होंने पहली बार देखा है। अस्पताल माल में कैसे बनाया गया, इसकी जांच कराकर सख्त एक्शन संबंधित लोगों के खिलाफ लिया जाएगा। मेयर के मुताबिक फिलहाल सारा ध्यान आग बुझाने पर लगाया जा रहा है।

जानकारी के मुताबिक गुरुवार रात तकरीबन 12.30 बजे मुंबई के भांडुप के एक मॉल में स्थित अस्पताल में अचानक आग लगने से हड़कंप मच गया। सूचना मिलते ही मुंबई पुलिस के साथ फायर ब्रिगेड मौके पर पहुंची और रेस्क्यू अभियान चलाया गया। इस अभियान में कोरोना संक्रमित मरीजों के साथ ही 68 मरीजों को अस्पताल से सुरक्षित बाहर निकाला गया है। सभी को दूसरे अस्पतालों में भेज दिया गया है।

फिलहाल इस हादसे में सुबह तक दो लोगों के मारे जाने की खबर मिली थी, लेकिन अब यह आंकड़ा 10 तक पहुंच गया है। पुलिस का कहना है कि आग बहुत तेजी से फैली। दमकल की गाड़ियां एक हिस्से की आग पर काबू पा रही थीं तो आग अस्पताल के दूसरे कोने तक फैल रही थी। फिलहाल स्थिति काफी हद तक काबू में बताई गई है। पुलिस के मुताबिक, आग पर काबू पाने के बाद संबंधित लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया जाएगा। मॉल में अस्पताल चलाने की अनुमति किसने दी, यह बात भी जांच का विषय है। पुलिस का कहना है कि मॉल जैसी जगह में अस्पताल नहीं चलाया जा सकता है।

उधर, दमकल का कहना है कि आग लगने के कारणों का पता नहीं लग सका है। एक बार घटना पूरी तरह से काबू हो जाए तभी पुख्ता तौर पर कहा जा सकता है कि आग कैसे लगी। फायर ब्रिगेड के अफसरों के मुताबिक, आग जिस तेजी से फैली उससे वह खुद भी स्तब्ध हैं। आग की लपटों ने तेजी से पूरे अस्पताल को अपनी चपेट में ले लिया। जब तक लपटों पर काबू पाते, 10 लोगों की जान चली गई।

Next Stories
1 LAC पर कारगर नहीं रहा सेनाओं का पीछे हटना? बोले सेना प्रमुख- चीन की ओर से ‘खतरा टला नहीं’
2 West Bengal Assembly Election: इस Opinion Poll में टीएमसी को सौ सीटें भी नहीं, बीजेपी को 183 का अनुमान
3 शिवसेना परमबीर को बचा रही? सवाल पर बोले नेता- गौरव भाटिया उस पर एक्शन की मांग करो, तुम वकील भी हो
ये पढ़ा क्या?
X