ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र: गृहमंत्री ने सचिन वाजे से हर महीने 100 करोड़ वसूली को कहा था- परमबीर सिंह का बड़ा आरोप, अनिल देशमुख का इनकार

आरोपों पर गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने खुद को बचाने के लिए झूठे आरोप लगाए हैं क्योंकि मुकेश अंबानी और मनसुख हिरेन के मामले में सचिन वाजे की संलिप्तता सामने आई है

maharashtraपत्र में लिखा है, ‘माननीय गृह मंत्री ने वाजे को बताया कि उनका टारगेट 100 करोड़ रुपए हर महीने जमा करने का है।’ (Indian Express)।

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर बड़े आरोप लगाए हैं। परमबीर सिंह का कहना है कि देशमुख ने पुलिस अफसर सचिन वाजे को हर महीने 100 करोड़ रुपए वसूलने के लिए कहा था। इन आरोपों के सामने आने के बाद से एंटीलिया मामले ने एक नया मोड़ ले लिया है।

पत्र में लिखा है, ‘माननीय गृह मंत्री ने वाजे को बताया कि उनका टारगेट 100 करोड़ रुपए हर महीने जमा करने का है। टारगेट को हासिल करने के लिए देशमुख ने वाजे को बताया कि मुंबई में लगभग 1,750 बार, रेस्तरां हैं और अगर उनमें से हर एक से 2-3 लाख रुपए की राशि वसूली जाती है, तो 40-50 करोड़ रुपए आसानी से जमा किए जा सकते हैं। गृह मंत्री ने कहा कि बाकी रकम दूसरे तरीकों से वसूली जा सकती है।’

इन आरोपों पर देशमुख ने कहा कि पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने खुद को बचाने के लिए झूठे आरोप लगाए हैं क्योंकि मुकेश अंबानी और मनसुख हिरेन के मामले में सचिन वाजे की संलिप्तता सामने आई है, जो अब तक की गई जांच से साफ हो रहा है और सिंह तक इसके तार भी पहुंच रहे हैं। इस मामले के सामने आने के बाद बीजेपी ने गृह मंत्री अनिल देशमुख से इस्तीफे की मांग की है।


परमबीर सिंह ने अपने खत में लिखा है कि एंटीलिया मामले को लेकर मार्च में मुख्यमंत्री को इस बात की जानकारी दी गई थी कि गृह मंत्री अनिल देशमुख द्वारा कई गलत काम किए जा रहे हैं। सिंह ने कहा कि उन्होंने उप मुख्यमंत्री अजित पवार, दूसरे मंत्रियों और यहां तक कि एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार को भी बताया था।

अपने पत्र में, मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर ने यह भी लिखा कि उन्होंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को उनके घर पर बैठक के दौरान एंटीलिया मामले से जुड़ी घटनाओं से अवगत कराया था। परमबीर सिंह ने लिखा, ‘मार्च 2021 के बीच में एंटीलिया की घटना के मद्देनजर ब्रीफिंग के लिए जब मुझे आपने देर शाम को बुलाया था, मैंने माननीय गृह मंत्री द्वारा किए गए कई गलत कामों की ओर इशारा किया था। मैंने माननीय उप मुख्यमंत्री, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष, शरद पवार और अन्य वरिष्ठ मंत्रियों को भी इसके बारे में बताया।’

सिंह के मुताबिक इस मामले में कई मंत्रियों को पहले से ही जानकारी थी। क्राइम ब्रांच मुंबई के अफसर वाजे को देशमुख ने कई बार अपने ऑफिस में बुलाया था और लगातार फंड जमा करने के लिए कहा था।

इधर महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने पत्र के माध्यम से जो आरोप लगाए हैं वो गंभीर हैं… महाराष्ट्र के गृह मंत्री को तुरंत इस्तीफा देना चाहिए या मुख्यमंत्री को उन्हें हटाना चाहिए। इस मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। केंद्रीय एजेंसी इसकी जांच करें अगर राज्य सरकार को लगता है कि हमें केंद्रीय एजेंसी से जांच नहीं करानी तो कोर्ट मॉनिटर इंक्वायरी होनी चाहिए।

इसी तरह केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि कि सचिन वाझे और शिवसेना का संबंध बहुत नजदीक दिख रहा है। देवेंद्र फडणवीस ने भी इस विषय पर अपनी बात रखी है। ये प्रकरण गंभीर है। मैं गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखने जा रहा हूं महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू होना ही चाहिए।

Next Stories
1 असम: कांग्रेस का घोषणापत्र जारी, CAA रद्द करने सहित किए पांच बड़े वादे
2 कभी रामदेव ने लालू को दिया था योग मंत्र! आसन दिखा बोले थे RJD नेता- पता नहीं किसके चक्कर में पड़ जाते हैं, इनका इस्तेमाल कर फेंक देते हैं लोग
3 अब कर्नाटक पहुंचे राकेश टिकैत, उपचुनाव में भाजपा का नुकसान कराना मकसद?
आज का राशिफल
X