scorecardresearch

BJP नेता ने पूछा- कांग्रेसी अब नमस्ते के बजाय जय भवानी, शिवाजी कहेंगे? एंकर बोले- JK में आप महबूबा से कैसे मिलते थे?

हुसैन ने यह पूछा- क्या वीर सावरकर के बारे में जो शिवसेना की जो राय है, वह राहुल गांधी की भी होगी। बालासाहब की राय से ये सहमत होंगे या फिर नहीं?”

BJP नेता ने पूछा- कांग्रेसी अब नमस्ते के बजाय जय भवानी, शिवाजी कहेंगे? एंकर बोले- JK में आप महबूबा से कैसे मिलते थे?
बीजेपी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन। (फोटोः FB/SyedShahnawazHussain)

महाराष्ट्र में Shivsena, Congress और NCP के संभावित गठबंधन पर एक डिबेट में शुक्रवार को बीजेपी नेता शाहनवाज हुसैन ने कांग्रेस के शिवसेना के साथ आने पर सवाल उठाए। उन्होंने पूछा कि अब इन दोनों पार्टियों में किसकी विचारधारा नजर आएगी। शिवसेना की या फिर कांग्रेस की?

हुसैन यही नहीं रुके, उन्होंने आगे पूछा-  कांग्रेस वाले अब शिवसेना नेताओं से मिलने पर नमस्ते के बजाय जय भवानी और जय शिवाजी कहेंगे? हालांकि, उनके इस प्रश्न पर एंकर ने स्पष्ट सवाल दागा।

यह मामला हिंदी चैनल आजतक से जुड़ा है, जिस पर दंगल नाम के शो में रोहित सरदाना महाराष्ट्र में सरकार गठन पर डिबेट करा रहे थे। पैनल में उनके साथ हुसैन के अलावा कई और मेहमान थे।

डिबेट में एक पल ऐसा आया, जब हुसैन ने कहा, “अब कांग्रेस के लोग शिवसेना वालों से जब मिलेंगे, तब किसकी विचारधारा दिखेगी? क्या कांग्रेसी अब नमस्ते की जगह पर जय भवानी और जय शिवाजी कहेंगे? क्या वीर सावरकर के बारे में जो शिवसेना की जो राय है, वह राहुल गांधी की भी होगी। बालासाहब की राय से ये सहमत होंगे या फिर नहीं?”

एंकर ने इसी पर उन्हें टोका और पूछा- जम्मू-कश्मीर में आपने पीडीपी के साथ ढाई-तीन साल सरकार चलाई। आप जब महबूबा मुफ्ती से मिलते थे, तब कैसे अभिवादन करते थे, उनके हिसाब से या अपने हिसाब से?

देखें, इस पर क्या रहा बीजेपी का जवाबः

बता दें कि NCP चीफ शरद पवार ने शुक्रवार को कहा कि शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस गठबंधन में सहमति बनी है कि महाराष्ट्र की नई सरकार का नेतृत्व उद्धव ठाकरे करेंगे। पवार की घोषणा, कांग्रेस, राकांपा और उनके चुनाव पूर्व गठबंधन सहयोगियों और तीनों पार्टियों की बैठकों के बाद आई है। वर्ली में नेहरू केंद्र में हुई बैठक के बाद पवार ने कहा कि अन्य मुद्दों पर चर्चा चल रही है।

राकांपा प्रमुख ने कहा, ‘‘ नेतृत्व का मुद्दा अब लंबित नहीं है। मुख्यमंत्री पद के लिए दो तरह की कोई राय नहीं थी। इस बात पर सहमति बनी है कि उद्धव ठाकरे नई सरकार का नेतृत्व करें।’’ सवाल किया गया कि उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री होंगे, तो पवार ने जवाब दिया, ‘‘ आप हिन्दी नहीं समझते हैं? नई सरकार का नेतृत्व उद्धव ठाकरे करेंगे।’’

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट