ताज़ा खबर
 

Maharashtra Gov Formation: महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगते ही GAD ने दिया फरमान, दस्तावेज-स्टेशनरी और फर्नीचर लौटाएं सभी मंत्रालय

राज्य में मंगलवार को राष्ट्रपति शासन लगाया गया था। राज्य की 288 सदस्यों वाली विधानसभा में भाजपा के सबसे अधिक 105 विधायक हैं। उसके साथ गठबंधन करके चुनाव लड़ने वाली शिवसेना के 56 विधायक हैं।

Author मुंबई | Published on: November 14, 2019 11:02 AM
राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने मंगलवार को की थी राष्ट्रपति शासन की सिफारिश। फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने के एक दिन बाद सामान्य प्रशासनिक विभाग (जीएडी) ने मंत्रालयों को आदेश दिया है कि वे बुधवार शाम तक सरकारी संपत्ति सौंप दें। जीएडी का आदेश सभी मंत्रालयों, मंत्रियों के लिए काम कर रहे विशेष कार्याधिकारियों (ओएसडी), निजी सचिवों और निजी सहायकों पर लागू होगा। आदेश में उनसे टेलीफोन बिल जमा करने और पहचान पत्र वापस करने के लिए कहा गया है। उन्हें आधिकारिक फाइलों, गोपनीय दस्तावेजों, आधिकारिक स्टेशनरी और फर्नीचर भी वापस करने के लिए कहा गया है।

सरकार बनाने का दांवा पेश करने में असफल रही:  बता दे कि राज्य में मंगलवार को राष्ट्रपति शासन लगाया गया था। राज्य की 288 सदस्यों वाली विधानसभा में भाजपा के सबसे अधिक 105 विधायक हैं। उसके साथ गठबंधन करके चुनाव लड़ने वाली शिवसेना के 56 विधायक हैं। तीसरी सबसे बड़ी पार्टी एनसीपी के 54 और कांग्रेस के 44 विधायक हैं। लेकिन कोई भी पार्टी गठबंधन कर सरकार बनाने का दांवा नहीं कर सकी जिसके कारण राज्यपाल को राष्ट्रपति शासन लागू करना पड़ा।

Hindi News Today, 13 November 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

शिवसेना ने SC दायर की याचिका : गौरतलब है कि महाराष्ट्र के राज्यपाल को एनसीपी ने मंगलवार सुबह 11 बजे एक चिट्ठी लिखी थी, इसमें सरकार गठन के लिए और समय मांगा था। इसी चिट्ठी के आधार पर राज्यपाल ने केंद्र सरकार से आर्टिकल 356 के तहत राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश की गई थी। जिसके बाद केद्र सरकार ने राष्ट्रपति शासन लगाकर सभी राजनीतिक गतिविधियों पर रोक लगा दीं। हालांकि शिवसेना ने राज्यपाल के इस फैसले को गलत बताते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 वोडाफोन CEO ने पीएम नरेंद्र मोदी को खत लिख मांगी माफी, निक रीड के बयान से नाराज थी सरकार
2 कश्मीर पर पहली बार संसदीय समिति करेगी मोदी सरकार से पूछताछ, कांग्रेसी सांसद आनंद शर्मा के सामने पेश होंगे गृह सचिव
3 केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद कश्मीर-लद्दाख में पेच, आरटीआई कानून को लेकर आ रहीं अड़चनें
जस्‍ट नाउ
X