ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्र: सरकार बनने के हफ्ते भर में ही Shivsena में बगावत, 400 शिवसैनिक BJP में शामिल, विचारधारा की टकराहट या भितरघात?

ऐसा कहा जा रहा है कि ये सभी शिवसैनिक पार्टी चीफ (उद्धव) के NCP और INC के साथ गठबंधन में जाने के फैसले से खफा चल रहे थे।

Author Edited By अभिषेक गुप्ता नई दिल्ली | Updated: December 5, 2019 5:16 PM
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे। (फाइल फोटोः AP)

महाराष्ट्र में Shivsena, NCP और Congress के गठबंधन वाली महाविकास अघाड़ी सरकार बनने के हफ्ते भर में ही उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना में बड़े स्तर पर बगावत हो गई है। 400 के आस-पास शिवसैनिक अपनी पार्टी छोड़ बीजेपी में शामिल हो गए हैं।

समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक, मुंबई के धारावी में चार दिसंबर, 2019 को आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान इन सभी शिवसैनिकों को बीजेपी की सदस्यता दिलाई गई। यह घटनाक्रम दो चश्मों से देखा जा रहा है। पहला- विचारधारा के टकराव को लेकर और दूसरा- शिवसेना में भितरघात से जुड़ा।

हालांकि, यह भी कहा जा रहा है कि ये सभी शिवसैनिक पार्टी चीफ (उद्धव) के NCP और INC के साथ गठबंधन में जाने के फैसले से खफा चल रहे थे। कुछ रिपोर्ट्स में इन शिवसैनिकों के हवाले से दावा किया गया, “शिवसेना ने भ्रष्ट और हिंदू विरोधी दलों के साथ मिला लिया है।”

इन्हीं 400 शिवसैनिकों में एक रमेश नदेशन भी हैं। वह 10 साल से शिवसेना से जुड़े थे, पर अब वह भाजपा में आ गए। उन्होंने एक चैनल को बताया, “शिवसेना ने जब महाराष्ट्र में गठबंधन के साथ सरकार चलाने का फैसला ले लिया, पर हम इससे सहमत नहीं हैं। हम शिवसेना के साथ इतने साल से सिर्फ हिंदुत्व की वजह से जुड़े थे।”

बता दें कि महाराष्ट्र में इस बार BJP और शिवसेना ने मिलकर चुनाव लड़ा था, पर मुख्यमंत्री पद पर फंसे पेंच को लेकर दोनों पार्टियां आमने-सामने आ गई थीं। आलम यह था कि दोनों के टकराव के चलते सूबे में राष्ट्रपति शासन तक लागू किया गया।

हालांकि, बाद में बड़ा सियासी उलटफेर हुआ, जिसमें एनसीपी के अजित पवार बागी हो बीजेपी के देवेंद्र फडणवीस के साथ आए और इन दोनों को क्रमशः डिप्टी सीएम और मुख्यमंत्री पद की शपथ  राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी ने दिलाई।

वैसे, चहुंओर आलोचना और निजी कारणों से अजित ने आगे पद से इस्तीफा दे दिया, जिसके बाद संख्या बल के अभाव में फडणवीस को भी सीएम की कुर्सी छोड़नी पड़ी। इसी घटनाक्रम के बाद शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस ने मिलकर महाविकास अघाड़ी गठबंधन गढ़ा और मिलकर सरकार बनाई, जिसमें सीएम उद्धव ठाकरे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Indian Railways: नौ में से सिर्फ इन दो क्लास का टिकट बेच IRCTC कमा रही मुनाफा, एक साल में करीब 1200 करोड़ का लाभ
2 मोदी सरकार के दलित मंत्री ने अनुसूचित जाति के लिए की अलग यूनिवर्सिटी की मांग, बोले- प्राइवेट संस्थानों में भी मिले आरक्षण
3 संसद में बोले केंद्रीय मंत्री- हम ऐसी सड़कें बना रहे, 100 साल तक नहीं पड़ेगा गड्ढा!
ये पढ़ा क्‍या!
X