ताज़ा खबर
 

“आप देखते रह‍िए, एक द‍िन टूट जाएगी बीजेपी”

पटोले ने आरोप लगाया कि बहुजन समाज से आए नेताओं को बीजेपी में पसंद नहीं किया जाता है। उन्होंने कहा कि बीजेपी में पेशवाई (मराठी ब्राह्मणों जैसा) हुक्म चलता है।

पार्टी मुख्‍यालय में भाजपा के संसदीय दल की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह। (Photo: PTI)

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और लोकसभा से इस्तीफा देकर कांग्रेस में गए पूर्व सांसद नाना भाऊ पटोले ने भविष्यवाणी की है कि बीजेपी आगे आने वाले समय में दो फाड़ हो जाएगी। उन्होंने कहा कि यशवंत सिन्हा ने इसकी शुरुआत कर दी है। वो ऐसे सबसे पहले शख्स हैं जिन्होंने बीजेपी के खिलाफ बगावत की है। पटोले ने रेडिफ डॉट कॉम से कहा कि जल्द ही बीजेपी से कई लोग बाहर आएंगे। बस आप देखते रहिए। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने लाल कृष्ण आडवाणी जैसे सीनियर नेता के साथ क्या किया? यह सब जानते हैं। महाराष्ट्र के भी वरिष्ठ नेता गोपीनाथ मुंडे और एकनाथ खडसे के साथ बीजेपी का व्यवहार अच्छा नहीं रहा है। पटोले ने आरोप लगाया कि बहुजन समाज से आए नेताओं को बीजेपी में पसंद नहीं किया जाता है। उन्होंने कहा कि बीजेपी में पेशवाई (मराठी ब्राह्मणों जैसा) हुक्म चलता है।

बता दें कि नाना पटोले के इस्तीफे के बाद ही महाराष्ट्र के भंडारा-गोंदिया संसदीय सीट पर उप चुनाव हुए थे जिसमें एनसीपी की जीत हुई है। साल 2014 में नाना पटोले ने इस सीट पर एनसीपी के दिग्गज नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रफुल्ल पटेल को 1 लाख 49 हजार 254 वोटों से हराया था। उन्होंने महाराष्ट्र में किसानों की दुर्दशा को देखते हुए पिछले साल लोकसभा और बीजेपी से इस्तीफा दे दिया था और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर किसानों के साथ धोखा करने का आरोप लगाया था। तब पटोले ने कहा था कि जो कोई भी किसानों को दु:ख पहुंचाएगा वह हिन्दुस्तान में शासन नहीं कर पाएगा।

पटोले ने भी ईवीएम पर सवाल उठाया और कहा कि ईवीएम में गड़बड़ी की गई है। उन्होंने कहा कि भंडारा-गोंदिया में एनसीपी को और अधिक वोट मिलने चाहिए थे। पटोले ने कहा कि भंडारा-गोंदिया के चुनाव परिणाम किसानों के प्रति बीजेपी की नीतियों और छोटे-मझोले व्यापारियों के गुस्से का परिणाम है। उन्होंने कहा कि देश में रोजाना किसान आत्महत्या कर रहे हैं लेकिन मोदी सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी है। उन्होंने कहा कि चुनाव से पहले नरेंद्र मोदी ने किसानों से वादा किया था लेकिन अब वे उसे भूल चुके हैं। पटोले ने कहा कि मोदी जी ने 2014 के चुनाव से पहले स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने का भरोसा दिया था लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा सौंपा है कि सरकार ऐसा नहीं कर सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App