ताज़ा खबर
 

दिल्ली मेट्रो में बैठे देवेंद्र फडणवीस तो याद आ गई मुंबई, उद्धव सरकार पर वार- अहंकार ले डूबेगा

महाराष्ट्र में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने एक हफ्ते पहले ही चिट्ठी लिख कर कहा था कि कुछ अधिकारी मेट्रो-3 लाइन पर प्रस्तावित कार शेड परियोजना पर सरकार को ‘भ्रमित’ कर रहे हैं, इससे कार्य पूरा होने में विलंब होगा और व्यय बढ़ेगा।

Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र मुंबई | Updated: January 28, 2021 2:15 PM
दिल्ली मेट्रो में सफर के दौरान महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस। (फोटो- ट्विटर/DevendraFadnavis)

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और मौजूदा विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने गुरुवार को दिल्ली मेट्रो में सफर करने के बाद उद्धव ठाकरे के नेतृत्व पर निशाना साधा। फडणवीस ने मुंबई में मेट्रो कार शेड के काम में हो रही देरी के लिए महाविकास अघाड़ी सरकार को जिम्मेदार ठहराया। साथ ही कहा कि पता नहीं मुझे मुंबई मेट्रो-3 के जरिए एयरपोर्ट तक का सफर करने का मौका मिलेगा।

क्या था फडणवीस का ट्वीट?: भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस ने ट्वीट में कहा, “आज मैंने दिल्ली मेट्रो में सफर किया और सड़क से यात्रा के मुकाबले मैं काफी कम समय में एयरपोर्ट पहुंच गया। कारशेड मुद्दे पर महाविकास अघाड़ी सरकार द्वारा बिगाड़ी गई चीजों को देखते हुए, पता नहीं मैं कब मुंबई मेट्रो-3 से एयरपोर्ट तक का सफर करुंगा।”

हफ्तेभर पहले ही फडणवीस ने ठाकरे को लिखी थी चिट्ठी: गौरतलब है कि फडणवीस ने पिछले हफ्ते ही मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से प्रस्तावित मेट्रो कार शेड को आरे कॉलोनी में पुन: स्थानांतरित करने की अपील की थी। दक्षिण मुंबई के कोलाबा और सीईईपीजेड के बीच मेट्रो-3 लाइन पर प्रस्तावित कार शेड का निर्माण पहले आरे कॉलोनी में ही होना था। बाद में राज्य सरकार ने इसे कंजूरमार्ग में स्थानांतरित करने की घोषणा की।

फडणवीस ने ठाकरे को पत्र लिख कर कहा कि कुछ अधिकारी मेट्रो-3 लाइन पर प्रस्तावित कार शेड परियोजना पर सरकार को ‘भ्रमित’ कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इससे कार्य पूरा होने में विलंब होगा और व्यय बढ़ेगा। उन्होंने कहा,‘‘अगर कार शेड को कंजूरमार्ग में स्थानांतरित किया जाता है तो, इसमें और संख्या में पेड़ काटे जाएंगे, परियोजना में देरी होगी और करोड़ों रुपए का नुकसान होगा।’’

भाजपा नेता ने कहा कि यह भी ‘झूठ’ है कि आरे कार शेड के लिए जमीन केवल 2031 तक ही उपलब्ध है। उन्होंने कहा, ‘‘आरे में कार शेड परियोना के अध्ययन के लिए गठित तकनीकि समिति ने शुरुआत में 25 हेक्टेयर जमीन का इस्तेमाल करने की अनुशंसा की थी। शेष 1.4 हेक्टेयर का इस्तेमाल बाद में किया जा सकता है। जमीन के उस छोटे से टुकड़े में 160 पेड़ हैं, जिन्हें 2053 तक कहीं और स्थानांतरित किया जा सकता है।”

Next Stories
1 अरविंद केजरीवाल का ऐलान, दिल्ली ही नहीं अब यूपी, उत्तराखंड समेत 6 राज्यों में लड़ेंगे चुनाव
2 Union Budget (1947-2021): बंटवारे के दर्द से लेकर कोरोना के कहर तक, बजट के देश का बहीखाता बनने की दास्तान
3 राहुल गांधी बोले- बहुत सारे किसान नहीं समझ पाए कृषि कानून वरना पूरा देश जल उठता
ये पढ़ा क्या?
X