ताज़ा खबर
 

अंधेरे में पिछली बार की तरह नहीं होगी अगली शपथ- बोले BJP के फडणवीस, रह पाए थे तब सिर्फ 3 दिन के CM, लिख रहे घटनाक्रम पर किताब

अब देंवेद्र फडणवीस ने भरोसा जताया है कि अगले 1-2 महीने में बीजेपी दोबारा सत्ता में लौटेगी और सरकार बनाएगी। उन्होंने कहा कि 'यह ना सोचें की हमारी सरकार नहीं बनेगी...यह 2-3 महीने में ही बनेगी।'

पूर्व सीएम ने कहा कि बीजेपी की सत्ता में दोबारा वापसी होगी। फाइल फोटो

‘अंधेरे में पिछली बार की तरह नहीं होगी अगली शपथ’..यह कहना है कि भारतीय जनता पार्टी के नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का। महाराष्ट्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस ने सोमवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि महाराष्ट्र विकास अघाड़ी सरकार के गिरने के बाद हम नई सरकार बनाएंगे। नई सरकार का शपथ ग्रहण सही समय पर होगा। अंधेरे में नहीं और तब की घटना दोबारा नहीं होगी। खास बात यह है कि देवेंद्र फडणवीस का यह बयान तब आया है जब अब से ठीक एक साल पहले पार्टी ने महाराष्ट्र में 80 घंटों की सरकार बनाई थी।

साल 2019 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद देवेंद्र फडणवीस ने एनसीपी के नेता अजीत पवार की मदद से सरकार बनाने का दावा किया था। 23 नवंबर 2019 को फडणवीस और अजीत पवार ने मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। मुंबई के राजभवन में दोनों नेताओं ने यह शपथ ली थी। हालांकि जल्दी ही अजीत पवार ने डिप्टी सीएम के पद से इस्तीफा दे दिया था और यह सरकार महज 80 घंटे में गिर गई थी। इसके बाद राज्य में शिवसेना के नेतृत्व में महाविकास अघाड़ी गठबंधन की सरकार बनी थी। शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने सीएम पद की शपथ ली थी औऱ अजीत पवार डिप्टी सीएम बने थे।

उस चुनाव में बीजेपी ने सबसे ज्यादा 105 सीटें जीती थी। शिवसेना को 56, एनसीपी को 54 औऱ कांग्रेस को 44 सीटों पर विजय हासिल हुई थी। अब देंवेद्र फडणवीस ने भरोसा जताया है कि अगले 1-2 महीने में बीजेपी दोबारा सत्ता में लौटेगी और सरकार बनाएगी। उन्होंने कहा कि ‘यह ना सोचें की हमारी सरकार नहीं बनेगी…यह 2-3 महीने में ही बनेगी। हम सिर्फ विधान परिषद के चुनाव के खत्म होने का इंतजार कर रहे हैं।’

राज्य के इतिहास में दर्ज हो चुके 80 घंटे की सरकार को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री एक किताब भी लिख रहे हैं। सोमवार को उन्होंने इसका भी खुलासा किया। फडनवीस ने कहा कि एक साल पहले 23 नवंबर को तड़के राजभवन में मुख्यमंत्री पद के शपथ ग्रहण समारोह को लेकर मैं एक पुस्तक लिख रहा हूं। मैं इस घटनाक्रम को भूलना नहीं चाहता हूं।’ सोमवार को उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाओं को याद नहीं रखना चाहिए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 यूपी में ‘लव जिहाद’ पर बहस के बीच हाई कोर्ट की बड़ी टिप्पणी, प्रियंका-सलामत केस में कहा- हम इन्हें हिंदू मुसलमान की तरह नहीं देखते
2 बिहार: विधानसभा अध्यक्ष पद पर विजय सिन्हा होंगे NDA के उम्मीदवार, BJP आलाकमान की लगी मोहर; सामाजिक समीकरण दुरुस्त करने के लिए नंद किशोर यादव सूची से बाहर
3 यूपी में “लव जिहाद” पर SIT जांच पूरी: नहीं कोई साज़िश, न ही विदेशी फंड का सुराग
कोरोना टीकाकरण
X