ताज़ा खबर
 

Maharashtra Elections: खतरे में BJP प्रदेश अध्यक्ष की भी सीट? गढ़ माने जाने वाले क्षेत्रों में कम मतदान से टेंशन में पार्टी

Maharashtra Elections 2019: बीजेपी के एक अन्य मजबूत गढ़ माने जाने वाले शिवाजीनगर में कम मतदान को पार्टी के अंदरखाने चल रही गुटबाजी से जोड़कर देखा जा रहा है। बीजेपी ने यहां पूर्व सांसद अनिल शिरोले के बेटे सिद्धार्थ शिरोले को मैदान में उतारा है।

Author पुणे | Published on: October 23, 2019 8:28 AM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

Maharashtra Elections 2019: महाराष्ट्र के पुणे की आठ विधानसभा सीटों पर मतदान की प्रतिशतता में गिरावट से बीजेपी की टेंशन बढ़ सकती है। दरअसल, वोटिंग पर्सेंटेज खासतौर पर उन सीटों पर गिरा है जहां बीजेपी ने 2014 में बड़े अंतर से जीत दर्ज की थी। इस नए हालात की वजह से कांग्रेस और एनसीपी गठबंधन की उम्मीदें थोड़ी बढ़ गई हैं। सोमवार को हुए मतदान में बीजेपी का गढ़ माने जाने वाले 5 विधानसभा क्षेत्रों कस्बा, कोथरूड, शिवाजीनगर, वडगांवशेरी और पार्वती में 2014 के मुकाबले वोटिंग पर्सेंटेज में काफी गिरावट दर्ज की गई।

बीजेपी नेताओं ने भी माना कि कम वोटिंग चिंता की बात है। शहर की मेयर मुक्ता तिलक कस्बा सीट से चुनावी मैदान में थीं। उन्होंने कहा, ‘कम मतदान एक बड़ी चिंता है। इस समस्या जड़ में जाने की जरूरत है, हालांकि इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं।’ तिलक ने कहा कि कम वोटिंग की एक वजह तो यह हो सकती है कि बहुत सारे मतदाता दूसरे इलाकों में रहने के लिए चले गए लेकिन चुनाव अधिकारी उनके नाम नहीं हटा पाए। इसके अलावा, मृत वोटरों के नाम भी नहीं हटे।

उधर, कांग्रेस नेता कम मतदान से उत्साहित हैं और उन्हें कुछ सीटों पर जीत की उम्मीद दिख रही है। पुणे कैंटोमेंट सीट से चुनावी मैदान में उतरे शहर कांग्रेस प्रमुख रमेश बगवे ने कहा, ‘बीजेपी के गढ़ में मतदाता प्रतिशत में गिरावट इस बात का संकेत है कि सत्ताधारी पार्टी का पतन शुरू हो चुका है। इससे पता चलता है कि उनकी लोकप्रियता कम हो रही है। कस्बा, पुणे कैंटोमेंट अऔर शिवाजीनगर में हमारे जीतने की अच्छी संभावनाएं हैं।’

बत दें कि पुणे शहर में कांग्रेस ने तीन जबकि एनसीपी ने 4 विधानसभा क्षेत्रों में अपने प्रत्याशी मैदान में उतारे थे। सबसे ज्यादा चर्चित विधानसभा सीटों में शुमार कोथरूड में 2014 के मुकाबले मतदान प्रतिशतता में 8.4 पर्सेंट की गिरावट दर्ज की गई। इसे बीजेपी के लिए सेफ सीट माना जाता है। यहां से पार्टी ने प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल को मैदान में उतारा था। पाटिल पहली बार चुनाव लड़ रहे हैं। उनका मुकाबला एमएनएस के किशोर शिंदे से है। कांग्रेस और एनसीपी ने शिंदे को अपना समर्थन दिया है।

बीजेपी के एक नेता ने कहा, ‘कोथरूड सीट लंबे वक्त से बीजेपी-शिवसेना गठबंधन के लिए गढ़ है। हालिया लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने यहां रिकॉर्ड अंतर से जीत दर्ज की थी। लोकसभा सीट में आने वाले विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों में कोथरूड ही था, जहां से पार्टी को सबसे बड़ी बढ़त मिली थी। जब खुद बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष मैदान में थे इलिए पार्टी ने कोई जांच नहीं लिया। पार्टी ने इस विधानसभा सीट को जीतने के लिए काफी वक्त और श्रम खर्च किया है। शहर के सभी बीजेपी नेताओं ने पाटिल के लिए प्रचार किया है। हालांकि, मतदान प्रतिशतता में ऐसी गिरावट की उम्मीद नहीं थी।’

वहीं, बीजेपी के एक अन्य मजबूत गढ़ माने जाने वाले शिवाजीनगर में कम मतदान को पार्टी के अंदरखाने चल रही गुटबाजी से जोड़कर देखा जा रहा है। बीजेपी ने यहां पूर्व सांसद अनिल शिरोले के बेटे सिद्धार्थ शिरोले को मैदान में उतारा है। शिरोले को मौका वर्तमान विधायक विजय काले की जगह पर दिया गया है। इसकी वजह से बीजेपी को पार्टी में ही विरोध का सामना करना पड़ा। काले के कुछ समर्थक प्रचार अभियान या मतदान से दूर रहे।

हालांकि, वडगांवशेरी में किसी तरह की गुटबाजी की गुंजाइश नहीं थी क्योंकि पार्टी ने वर्तमान विधायक जगदीश मलिक को ही मौका दिया था। इसक बावजूद, यहां मतदान प्रतिशतता में 7.10 पर्सेंटेज की गिरावट हुई। बीजेपी ने स्थानीय एनसीपी नेताओं को अपने पाले में करके अपना वोटर बेस बढ़ाने की कोशिश की थी, लेकिन मनोवांछित नतीजे मिलते नजर नहीं आ रहे।

एक अन्य बीजेपी नेता ने कहा कि पार्टी कम मतदान की वजह पता करने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा, ‘कम मतदान की वजह समझना बेहद मुश्किल है…मुमकिन है कि नतीजों से हमें कुछ जवाब मिल जाएंगे।’ उधर, पार्वती सीट पर शहर बीजेपी प्रमुख माधुरी मिसल जीत की हैट्रिक लगाने की कोशिश में हैं। हालांकि, यहां एक एनसीपी नेता ने बताया, ‘मतदान प्रतिशत में इजाफा होना चाहिए था क्योंकि शहर बीजेपी प्रमुख खुद मैदान में हैं। लेकिन मतदान प्रतिशत 6.83 पर्सेंट गिर गया, इसका मतलब तो यही है कि पुणे में बीजेपी के लिए सब कुछ अच्छा नहीं है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 J&K में मानवाधिकार के हालात पर अमेरिका ने जताई ‘चिंता’, कहा- करीब से रख रहे हैं नजर
2 भारतीय सेना की बड़ी कार्रवाई- पीओके में आतंकी लॉन्च पैड किए नष्ट, 18 आतंकियों को भी मार गिराया!
3 हरियाणा में चुनावी प्रबंधन में हमारी स्पष्ट कमी रही, आत्मावलोकन करेंगे: भाजपा